‘कहीं दूर जब दिन ढल जाए…’ गाने के लेखक का हुआ निधन, लता मंगेशकर ने दी श्रद्धांजलि


नई दिल्ली: बॉलीवुड के जाने-माने गीतकार योगेश गीतकार योगेश (Yogesh) का बीती शाम यानी शुक्रवार को निधन हो गया है. 77 साल की उम्र में इस महान गीतकार ने दुनिया को अलविदा कहा. स्वर कोकिला लता मंगेशकर (Lata Mangeshkar) ने सोशल मीडिया पर इस दुखद खबर को शेयर करते हुए गीतकार को श्रद्धांजलि अर्पित की है. इस खबर के सामने आने के बाद से पूरे संगीत जगत को सदमा लगा है. 

लता मंगेशकर (Lata Mangeshkar Twitter) ने ट्वीट करते हुए सोशल मीडिया पर लिखा, “मुझे अभी पता चला कि दिल को छूनेवाले गीत लिखने वाले कवि योगेश जी का आज स्वर्गवास हो गया है. ये सुनकर मुझे बहुत दुख हुआ. योगेश जी के लिखे गीत मैंने गाए.”

इसके आगे लता मंगेशकर (Lata Mangeshkar) ने यह भी कहा, “योगेश जी बहुत शांत और मधुर स्वभाव के इंसान थे. मैं उनको विनम्र श्रद्धांजलि अर्पण करती हूं.” लता मंगेशकर का ट्वीट खूब वायरल हो रहा है और लोग इस पर अपनी संवेदनाएं भी प्रकट कर रहे हैं. आपको बता दें कि गीतकार योगेश (Yogesh) ने ‘कहीं दूर जब दिन ढल जाए’ और ‘जिंदगी कैसी है पहेली’ जैसे हिट सॉन्ग के लिरिक्स लिखे हैं. 

योगेश ने ऋषिकेश मुखर्जी और बासु चटर्जी जैसे बड़े डायरेक्टर्स के साथ भी काम किया है. उन्हें गीतकार के रूप में अपना पहला ब्रेक फिल्म ‘सखी रोबिन’ Sakhi Robin (1962) में मिला था. इसके अलावा उन्होंने छोटी सी बात (1976), बातों बातों में (1979), मंज़िल (1979), रजनीगंधा (1974), प्रियतमा (1977) मंजिलें और भी हैं (1974) और कई और फिल्मों के लिए सॉन्ग लिखे.

एंटरटेनमेंट की और खबरें पढ़ें 





Source link