तेजस्वी यादव ने नीतीश सरकार पर सृजन घोटाले को लेकर बोला हमला, NDTV की खबर को ट्वीट कर पूछा यह सवाल ?


राजद नेता तेजस्वी यादव (फाइल फोटो).

नई दिल्ली:

बिहार विधानसभा में नेता विपक्ष और राजद नेता तेजस्वी यादव ने राज्य सरकार पर सृजन घोटाले को लेकर हमला बोला है.  तेजस्वी यादव ने एनडीटीवी की खबर को ट्वीट कर पूछा, ‘बिहार सरकार के शीर्ष पर बैठे सृजन घोटाले के मुख्य सूत्रधार को CBI द्वारा क्यों बचाया जा रहा है? महादलित विकास मिशन घोटाला, ज़मीन और सृजन घोटाले के आरोपी केपी रमैया तो उनकी आँखों का तारा है. पटना हाईकोर्ट ने केपी रमैया के भ्रष्टाचार पर तल्ख टिप्पणियां की थी.’ बता दें कि एनडीटीवी की खबर , ‘सृजन घोटाला : पूर्व IAS के खिलाफ चार्जशीट बिहार चुनाव से पहले बन सकती है CM नीतीश के गले की फांस’ को तेजस्वी ने ट्वीट किया है. 

यह भी पढ़ें

गौरतलब है कि बिहार का सृजन घोटाला शायद देश के उन गिने चुने घोटालों में से एक है जहां जांच एजेंसी सीबीआई आरोप पत्र तो दायर कर रही हैं लेकिन इस संस्था के कर्ताधर्ता मतलब सृजन की सचिव प्रिया और उनके पति अमित की गिरफ़्तारी की कोशिश नहीं की जा रही है. लेकिन इस मामले में सीबीआई ने  शनिवार को पूर्व आईएएस अधिकारी केपी रमैया के ख़िलाफ़ चार्जशीट दायर की है. लेकिन इसकी फांस ऐसी है कि विपक्ष को सीएम नीतीश कुमार के खिलाफ हमला करने का मौका मिल सकता है. क्योंकि साल  2014 के लोकसभा चुनाव में केपी रमैया जनता दल यूनाइटेड के टिकट से  सासाराम में पार्टी के प्रत्याशी भी रहे हैं. चुनाव हारने के बाद उन्हें एक  ट्रिब्युनल का अध्यक्ष भी बनाया गया. बाद में नीतीश कुमार से उनके सम्बंध में खटास इसलिए आ गई क्योंकि पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी को नीतीश के ख़िलाफ़ भड़काने वालों में रमैया भी एक थे. 

हालांकि इससे पूर्व रमैया के ख़िलाफ़ बिहार में निगरानी विभाग ने महादलित विकास मिशन में एक पांच करोड़ के घोटाले में चार्जशीट दायर कर चुकी है लेकिन माना ये जा रहा हैं उन्हें उनकी पहुंच के वजह से कभी गिरफ़्तार नहीं किया गया. पटना हाईकोर्ट का फ़ैसला जिसे बाद में ख़ारिज किया गया उसमें भी रमैया के मामले का विस्तार से चर्चा की गयी थी.

 

फ़िलहाल सीबीआई ने शनिवार को तीन आरोप पत्र दायर किए हैं. पहली चार्जशीट में 3.5 करोड़ की धोखाधड़ी, जालसाज़ी, भ्रष्टाचार और आपराधिक षड्यंत्र के लिए रमैया और 28 अन्य लोगों के ख़िलाफ़ आरोप पत्र दायर किया है. जिसमें बैंक अधिकारी, ज़िला अधिकारी के कार्यालय में काम करने वाले अधिकारी शामिल हैं. इससे पूर्व भी एक और पूर्व ज़िला अधिकारी वीरेंद्र यादव के ख़िलाफ़ सीबीआई ने चार्जशीट दायर की थी.

इन दोनों अधिकारियों पर राज्य सरकार के खाते से साज़िश कर सृजन के खाते में पैसे भेजने का आरोप है. और बाद में इस पैसे में घोटाला कर आपस में बांट लिया. सृजन घोटाला साल 2017 के अगस्त में सामने आया था. बैंक से जुड़े फ़र्ज़ीवाड़ा के मामले की जांच सीबीआई को दे दी गई थी. 

लेकिन इस मामले में ये एक रहस्य का विषय बना हुआ हैं कि अब तक 1400 करोड़ का घोटाला होने के बावजूद कभी भी मुख्य कर्ताधर्ता को गिरफ़्तार करने में जांच एजेंसी ने दिलचस्पी नहीं दिखायी. 

 





Source link