मन की बात : कोरोना संकट की सबसे ज्यादा चोट हमारे गरीब, मजदूर और श्रामिकों पर पड़ी- PM मोदी


कोरोना संकट के दौरान पीएम मोदी की तीसरा ‘मन की बात’ कार्यक्रम

नई दिल्ली:

कोरोना के साथ जारी जंग के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज रेडियो कार्यक्रम ‘मन की बात’ के जरिए देशवासियों को संबोधित कर रहे हैं. कोरोना काल के दौरान यह तीसरा मौका है जब पीएम मोदी इस कार्यक्रम के जरिए देश के लोगों को संबोधित करने रहे हैं. देखिए उन्होंने अपने कार्यक्रम में क्या कुछ कहा. 

PM  मोदी की मन की बात Live Updates: 

  • पिछली बार जब मन की बात की थी तो काफी कुछ बंद था और आज की तारीख में अर्थव्यवस्था का पहिया चल पड़ा है. 
  • अनलॉक1 के साथ हमें पहले से ज्यादा सतर्क रहने की जरूरत है, चेहरे को ढंक कर रहें और साफ सफाई का विशेष ध्यान रखें. 
  • तमिलनाडु के सी मोहन का जिक्र किया, सलून चलाने वाले सी मोहन ने बेटी की शादी के लिए बचाए 5 लाख रुपये कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई में दान दे दिए. 
  • पंजाब के पठानकोट के रहने वाले दिव्यांग राजू ने लोगों से जुटाए पैसे कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई में दान दिए. 
  • लॉकडाउन के दौरान कई सारे तरीके इजाद किए गए, दुकानदारों ने तरह तरह से सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए लोगों की सेवा की. 
  • कोरोना के खिलाफ संग्राम लंबे समय तक चलने वाला है, और इसका असर हर वर्ग पर पड़ी है. सबसे ज्यादा असर गरीब और प्रवासी मजदूरों पर देखने को मिला है. 
  • रेलवे के कर्मचारी जिस तरह से लाखों श्रामिकों के लिए काम कर रहे हैं, एक तरह से वह अग्रिम पंक्ति के कोरोना वॉरियर्स मालूम पड़ते हैं. 
  • आज जो कुछ हो रहा है, उससे हमें पुराने समय में हुए कामों का अवलोकन और भविष्य के लिए सीखने की जरूरत है. 
  • केंद्र ने जो फैसले लिए उससे ग्रामीण इलाकों में काम की अपार संभावनाएं हैं, अगर हमारे ग्रामीण आत्मनिर्भर होते, हमारे जिले आत्मनिर्भर होते. तो आज ऐसे हालात नहीं होते. 
  • मेक इन इंडिया को बढ़ावा मिले, इसके लिए हर कोई अपनी अपनी जिम्मेदारी का निर्वाह कर रहा है. 
  • कोरोना संकट के दौरान देखने को मिल रहा है कि हरिद्वार से हॉलीवुड तक लोग घरों में योग कर रहे हैं.
  • आयुष्मान भारत योजना ने बड़ी आबादी के लोगों को मदद की, गरीबों के इलाज के पैसों की बचत हुई है. 
  • एक करोड़ लाभार्थी में से 80 लाख लाभार्थी ग्रामीण परिवेश से आए हैं और इनमें से भी 50 फीसदी इलाज महिलाओं का हुआ है. 
  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोरोना संकट में सहायक योग और आयुर्वेद पर विश्व के नेताओं के साथ बातचीत और उनकी उत्सुकता का ज़िक्र किया.
  • संकट की घडी में गाँव से लेकर शहर तक Innovation, Startup और कोरोना के ख़िलाफ़ लडाई में Labs में नए नए तरीक़ों के इजाद ने दिल को छू लिया. 
  • जब एक गरीब बीमारी से ऊबर नहीं 

यह भी पढ़ें



Source link