Sunday, August 16, 2020
Home Breaking News Hindi लालू शासनकाल की गलतियों के लिए तेजस्वी यादव ने फिर मांगी माफी

लालू शासनकाल की गलतियों के लिए तेजस्वी यादव ने फिर मांगी माफी

- Advertisement -


न्यूज डेस्क, अमर उजाला, पटना
Updated Sun, 05 Jul 2020 07:06 PM IST

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon worth ₹200

ख़बर सुनें

बिहार में मुख्य विपक्षी लालू प्रसाद की राष्ट्रीय जनता दल (राजद) द्वारा रविवार को 24 वें स्थापना दिवस मनाए जाने के साथ लालू प्रसाद के बेटों ने पेट्रोलियम पदार्थों की कीमतों में वृद्धि के खिलाफ पटना में साइकिल रैली निकाली। पूर्व प्रधानमंत्री वीपी सिंह द्वारा स्थापित जनता दल में विभाजन के परिणामस्वरूप राजद अस्तित्व में आया था। लालू जो उस समय उसके कार्यवाहक अध्यक्ष थे और संगठनात्मक चुनावों में अपने प्रतिद्वंदी शरद यादव के हाथों उन्हें अपनी हार की आशंका थी।

इस कदम से पूर्व मुख्यमंत्री लालू जिन्हें चारा घोटाला मामले में अपने खिलाफ दायर आरोप पत्र के कारण गिरफ्तारी का सामना करना पड़ा था। अपनी पत्नी राबड़ी देवी जो तब तक राजनीति से दूर रही थीं, उन्हें पदभार सौंपने में मदद मिली थी।

राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के 24वें स्थापना दिवस के अवसर पर पेट्रोल की बढ़ती कीमतों के खिलाफ पार्टी के कार्यकर्ताओं ने रविवार को साइकिल मार्च किया। बिहार विधानसभा के नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव व तेजप्रताप यादव सहित राजद के अन्य कार्यकर्ताओं ने सरकार के विरोध में साइकिल रैली निकाली। इस दौरान उन्होंने एक बार फिर पिता लालू प्रसाद यादव के शासनकाल की गलतियों के लिए जनता से माफी मांगी। 

राजधानी पटना में बिहार विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव अपने आवास से साइकिल से पार्टी कार्यालय पहुंचे। तेजस्वी ने एनडीए सरकार के खिलाफ हमला बोलते हुए कहा कि इस सरकार से गरीब जनता त्रस्त हो चुकी है।

राजद कार्यकर्ताओंने वार्ड से लेकर पंचायत और जिला मुख्यालय तक साइकिल रैली निकाली। साइकिल रैली निकालने के दौरान तेजस्वी ने तेजस्वी ने कहा कि भाजपा को पहले महंगाई डायन लगती थी आज वो भौजाई लगने लगी है।

तेजस्वी ने पार्टी कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए बिहार के सीएम नीतीश कुमार पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि बिहार सरकार लोगों को जंगलराज की याद दिला रही है, जो 30 साल पुरानी बात हो गई है। मैंने स्वीकार किया है कि अगर राजद के 15 साल के शासनकाल में कोई गलती हुई है तो जनता मुझे माफ करे।

तेजस्वी ने कहा कि देश जिस दौर से गुजर रहा है हमें लगता है कि इस दौर में लालू जी की सबसे ज्यादा जरूरत है। खासतौर से आज संसद में लालू जी को होना चाहिए, सब लोग उनकी कमी को महसूस कर रहे हैं। 

मालूम हो कि पांच जुलाई 1997 को दिल्ली में जनता दल से अलग होकर लालू प्रसाद यादव ने राष्ट्रीय जनता दल नाम से अपनी अलग पार्टी बनाई थी। 

 

बिहार में मुख्य विपक्षी लालू प्रसाद की राष्ट्रीय जनता दल (राजद) द्वारा रविवार को 24 वें स्थापना दिवस मनाए जाने के साथ लालू प्रसाद के बेटों ने पेट्रोलियम पदार्थों की कीमतों में वृद्धि के खिलाफ पटना में साइकिल रैली निकाली। पूर्व प्रधानमंत्री वीपी सिंह द्वारा स्थापित जनता दल में विभाजन के परिणामस्वरूप राजद अस्तित्व में आया था। लालू जो उस समय उसके कार्यवाहक अध्यक्ष थे और संगठनात्मक चुनावों में अपने प्रतिद्वंदी शरद यादव के हाथों उन्हें अपनी हार की आशंका थी।

इस कदम से पूर्व मुख्यमंत्री लालू जिन्हें चारा घोटाला मामले में अपने खिलाफ दायर आरोप पत्र के कारण गिरफ्तारी का सामना करना पड़ा था। अपनी पत्नी राबड़ी देवी जो तब तक राजनीति से दूर रही थीं, उन्हें पदभार सौंपने में मदद मिली थी।

राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के 24वें स्थापना दिवस के अवसर पर पेट्रोल की बढ़ती कीमतों के खिलाफ पार्टी के कार्यकर्ताओं ने रविवार को साइकिल मार्च किया। बिहार विधानसभा के नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव व तेजप्रताप यादव सहित राजद के अन्य कार्यकर्ताओं ने सरकार के विरोध में साइकिल रैली निकाली। इस दौरान उन्होंने एक बार फिर पिता लालू प्रसाद यादव के शासनकाल की गलतियों के लिए जनता से माफी मांगी। 

राजधानी पटना में बिहार विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव अपने आवास से साइकिल से पार्टी कार्यालय पहुंचे। तेजस्वी ने एनडीए सरकार के खिलाफ हमला बोलते हुए कहा कि इस सरकार से गरीब जनता त्रस्त हो चुकी है।

राजद कार्यकर्ताओंने वार्ड से लेकर पंचायत और जिला मुख्यालय तक साइकिल रैली निकाली। साइकिल रैली निकालने के दौरान तेजस्वी ने तेजस्वी ने कहा कि भाजपा को पहले महंगाई डायन लगती थी आज वो भौजाई लगने लगी है।

तेजस्वी ने पार्टी कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए बिहार के सीएम नीतीश कुमार पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि बिहार सरकार लोगों को जंगलराज की याद दिला रही है, जो 30 साल पुरानी बात हो गई है। मैंने स्वीकार किया है कि अगर राजद के 15 साल के शासनकाल में कोई गलती हुई है तो जनता मुझे माफ करे।

तेजस्वी ने कहा कि देश जिस दौर से गुजर रहा है हमें लगता है कि इस दौर में लालू जी की सबसे ज्यादा जरूरत है। खासतौर से आज संसद में लालू जी को होना चाहिए, सब लोग उनकी कमी को महसूस कर रहे हैं। 

मालूम हो कि पांच जुलाई 1997 को दिल्ली में जनता दल से अलग होकर लालू प्रसाद यादव ने राष्ट्रीय जनता दल नाम से अपनी अलग पार्टी बनाई थी। 

 





Source link

- Advertisement -
- Advertisment -

Most Popular

माल भाड़े के रेवेन्यू को बढ़ाने के लिए रेलवे ने पहली बार असम से अरुणाचल भेजी ये चीज

नई दिल्ली: माल भाड़े से मिलने वाले रेवेन्यू को बढ़ावा देने के लिए रेलवे ने अनूठी कोशिश की है. इसके तहत पहली बार...

Hyderabad: Zoo names tiger cub after Galwan martyr Col Santosh Babu

One of the three cubs born to a Royal Bengal tigress...