Monday, August 10, 2020
Home Breaking News Hindi सीआरपीएफ को ट्रांसजेंडर अधिकारी से कोई गुरेज नहीं, भर्ती को लेकर गृह...

सीआरपीएफ को ट्रांसजेंडर अधिकारी से कोई गुरेज नहीं, भर्ती को लेकर गृह मंत्रालय को दी अपनी राय

- Advertisement -


डिजिटल ब्यूरो, अमर उजाला, नई दिल्ली
Updated Fri, 03 Jul 2020 09:36 PM IST

सीआरपीएफ के जवान (फाइल फोटो)
– फोटो : CRPF Facebook

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon worth ₹200

ख़बर सुनें

केंद्रीय अर्धसैनिक बलों में बतौर सहायक कमांडेंट के पद पर ट्रांसजेंडर की भर्ती को लेकर सीआरपीएफ ने अपनी राय दे दी है। इसमें कहा गया है कि देश के सबसे बड़े केंद्रीय अर्धसैनिक बल को ट्रांसजेंडर अधिकारी की भर्ती से कोई गुरेज नहीं है। बल ने शुक्रवार शाम को केंद्रीय गृह मंत्रालय को अपना जवाब भेज दिया है। 

इस जवाब में कहा गया है कि ‘हम माननीय सर्वोच्च न्यायालय के आदेश की भावना को पूरी तरह से महत्व देते हैं। सीआरपीएफ में पहले से ही जेंडर तटस्थ काम का माहौल है। केंद्रीय गृह मंत्रालय के नीतिगत दिशानिर्देशों को ध्यान में रखते हुए, हम इसे जरूरत के अनुसार और ज्यादा अनुकूल बनाएंगे।’

बता दें कि केंद्र सरकार, अर्धसैनिक बलों में ट्रांसजेंडर की भर्ती पर विचार कर रही है। संघ लोक सेवा आयोग के जरिए सहायक कमांडेंट के पद पर यह भर्ती होगी। ट्रांसजेंडर को यूपीएससी की वार्षिक परीक्षा में बैठने की अनुमति देने से पहले केंद्रीय गृह मंत्रालय से राय मांगी गई है। 

केंद्र सरकार ने गत वर्ष ट्रांसजेंडर व्यक्ति से जुड़े (अधिकारों का संरक्षण) कानून को अधिसूचित किया था। इसमें कहा गया था कि ट्रांसजेंडर को सभी क्षेत्रों और सेवाओं में एक समान अवसर दिया जाना जरूरी है। इसके चलते केंद्रीय गृह मंत्रालय ने केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल, सीमा सुरक्षा बल, केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल, भारत-तिब्बत सीमा पुलिस और सशस्त्र सीमा बल से राय मांगी थी।

इसमें यह भी पूछा गया था कि सीएपीएफ में सहायक कमांडेंट के पद पर भर्ती के लिए यूपीएससी जो परीक्षा आयोजित करती है, उसकी अधिसूचना में ट्रांसजेंडर श्रेणी को शामिल किया जाए या नहीं। इसी के तहत सीआरपीएफ ने अपना जवाब दिया है।

केंद्रीय अर्धसैनिक बलों में बतौर सहायक कमांडेंट के पद पर ट्रांसजेंडर की भर्ती को लेकर सीआरपीएफ ने अपनी राय दे दी है। इसमें कहा गया है कि देश के सबसे बड़े केंद्रीय अर्धसैनिक बल को ट्रांसजेंडर अधिकारी की भर्ती से कोई गुरेज नहीं है। बल ने शुक्रवार शाम को केंद्रीय गृह मंत्रालय को अपना जवाब भेज दिया है। 

इस जवाब में कहा गया है कि ‘हम माननीय सर्वोच्च न्यायालय के आदेश की भावना को पूरी तरह से महत्व देते हैं। सीआरपीएफ में पहले से ही जेंडर तटस्थ काम का माहौल है। केंद्रीय गृह मंत्रालय के नीतिगत दिशानिर्देशों को ध्यान में रखते हुए, हम इसे जरूरत के अनुसार और ज्यादा अनुकूल बनाएंगे।’

बता दें कि केंद्र सरकार, अर्धसैनिक बलों में ट्रांसजेंडर की भर्ती पर विचार कर रही है। संघ लोक सेवा आयोग के जरिए सहायक कमांडेंट के पद पर यह भर्ती होगी। ट्रांसजेंडर को यूपीएससी की वार्षिक परीक्षा में बैठने की अनुमति देने से पहले केंद्रीय गृह मंत्रालय से राय मांगी गई है। 

केंद्र सरकार ने गत वर्ष ट्रांसजेंडर व्यक्ति से जुड़े (अधिकारों का संरक्षण) कानून को अधिसूचित किया था। इसमें कहा गया था कि ट्रांसजेंडर को सभी क्षेत्रों और सेवाओं में एक समान अवसर दिया जाना जरूरी है। इसके चलते केंद्रीय गृह मंत्रालय ने केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल, सीमा सुरक्षा बल, केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल, भारत-तिब्बत सीमा पुलिस और सशस्त्र सीमा बल से राय मांगी थी।

इसमें यह भी पूछा गया था कि सीएपीएफ में सहायक कमांडेंट के पद पर भर्ती के लिए यूपीएससी जो परीक्षा आयोजित करती है, उसकी अधिसूचना में ट्रांसजेंडर श्रेणी को शामिल किया जाए या नहीं। इसी के तहत सीआरपीएफ ने अपना जवाब दिया है।



Source link

- Advertisement -
- Advertisment -

Most Popular

फाइनल ईयर की बची हुई परीक्षाएं होंगी या नहीं? आज हो सकता है फैसला

नई दिल्ली: यूनिवर्सिटी ग्रांट कमीशन (यूजीसी) ने देशभर के विश्वविद्यालयों को अंतिम वर्ष की परीक्षाएं 30 सितंबर तक आयोजित करवाने का निर्देश दिया...

Madhya Pradesh CM Shivraj Singh Chouhan to donate convalescent plasma for treatment of COVID-19 patients

Madhya Pradesh Chief Minister Shivraj Singh Chouhan on Sunday said he...

शुरू होने जा रही गधी के दूध की डेयरी, 1 लीटर की कीमत 7000 रुपये; जानें इसके फायदे

नई दिल्ली: भारत में कई दुधारू पशुओं का पालन किया जाता है. इसमें गाय, भैंस या बकरी शामिल हैं. वैसे अभी तक आपने...