सीमा पर सड़कों के निर्माण में भारत ने झोंकी ताकत, रक्षामंत्री खुद कर रहे काम की समीक्षा

Monthly / Yearly free trial enrollment


न्यूज डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली
Updated Tue, 07 Jul 2020 12:34 PM IST

बीआरओ अधिकारियों के साथ बैठक करते रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह
– फोटो : ANI

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon worth ₹200

ख़बर सुनें

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने सीमा पर हो रहे सड़क निर्माण को लेकर सीमा सड़क संगठन (बीआरओ) के प्रमुख लेफ्टिनेंट जनरल हरपाल सिंह के साथ बैठक की। लेफ्टिनेंट जनरल ने सड़क निर्माण से जुड़ी जानकारियों को रक्षा मंत्री के साथ साझा किया। इस बैठक में बीआरओ के अन्य अधिकारी भी शामिल थे। 

बताया गया है कि यह बैठक साउथ ब्लॉक में आयोजित की गई थी। लेफ्टिनेंट जनरल ने रक्षा मंत्री को चीन के साथ वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) और पाकिस्तान के साथ नियंत्रण रेखा (एलओसी) पर चल रही सड़क निर्माण परियोजनाओं की जानकारी दी। मिली जानकारी के अनुसार, यह बैठक एक घंटे से अधिक समय तक चली। 
 

बैठक में, लेफ्टिनेंट जनरल हरपाल सिंह ने रक्षा मंत्री को आश्वासन दिया कि बीआरओ एलएसी और एलओसी पर चल रही परियोजनाओं को समय पर पूरा करने में कोई कसर नहीं छोड़ेगा। उन्होंने बताया कि रक्षा, गृह और परिवहन मंत्रालय सीमा पर सभी परियोजनाओं के लिए समन्वय बनाकर काम कर रहे हैं।

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने सीमा पर हो रहे सड़क निर्माण को लेकर सीमा सड़क संगठन (बीआरओ) के प्रमुख लेफ्टिनेंट जनरल हरपाल सिंह के साथ बैठक की। लेफ्टिनेंट जनरल ने सड़क निर्माण से जुड़ी जानकारियों को रक्षा मंत्री के साथ साझा किया। इस बैठक में बीआरओ के अन्य अधिकारी भी शामिल थे। 

बताया गया है कि यह बैठक साउथ ब्लॉक में आयोजित की गई थी। लेफ्टिनेंट जनरल ने रक्षा मंत्री को चीन के साथ वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) और पाकिस्तान के साथ नियंत्रण रेखा (एलओसी) पर चल रही सड़क निर्माण परियोजनाओं की जानकारी दी। मिली जानकारी के अनुसार, यह बैठक एक घंटे से अधिक समय तक चली। 

 

बैठक में, लेफ्टिनेंट जनरल हरपाल सिंह ने रक्षा मंत्री को आश्वासन दिया कि बीआरओ एलएसी और एलओसी पर चल रही परियोजनाओं को समय पर पूरा करने में कोई कसर नहीं छोड़ेगा। उन्होंने बताया कि रक्षा, गृह और परिवहन मंत्रालय सीमा पर सभी परियोजनाओं के लिए समन्वय बनाकर काम कर रहे हैं।





Source link