जब चिड़ियां चुग गई खेत……

जब चिड़ियां चुग गई खेत......
जब चिड़ियां चुग गई खेत......

दिल्ली मेट्रो का किराया बढ़ भी गया और अब एबीवीपी वाले प्रदर्शन करते नजर आ रहे हैं। जी हाँ, ये तो वही बात हो गई जब चिड़िया चुग की खेत तो पछताने से क्या फायदा? कुछ ऐसा ही हुआ है दिल्ली में। मेट्रो के किराया को बढ़ाने की बात तकरीबन 10 दिन से चल रही है, लेकिन छात्र संगठन के लीडर अभी तक कही नहीं दिखे ऐसे में जब अब किराया बढ़ गया तो ये छात्र संगठन प्रदर्शन करने पर उतर आये है। आइये खबर पर एक नजर डालते हैं……

आपको बता दें कि दिल्ली मेट्रो का किराया बढ़ने की वज़ह से एक बार फिर से दिल्ली सरकार और केंद्र सरकार आमने सामने आ गये थे। जहाँ एक तरफ दिल्ली सरकार किराया को नहीं बढ़ाना चाहती थी, वही दूसरी तरफ केंद्र सरकार किराया बढ़ाने के लिए मुहर लगा चुकी थी, और अब किराया बढ़ भी गया है।

मेट्रो स्टेशन के बाहर एवीबीपी का प्रदर्शन…

मेट्रो का किराया बढ़ने के विरोध में एबीवीपी ने मेट्रो स्टेशन पर प्रदर्शन किया। उनकी मांग है कि मेट्रो किराया कम किया जाए, लेकिन जब खुद केंद्र सरकार इस मुहर लगा चुकी है, ऐसे में ये लोग प्रदर्शन करके क्या साबित कर रहे है?

प्रदर्शन की आड़ में राजनीति…

सभी जानते है कि एवीबीपी बीजेपी की पार्टी है, ऐसे में जब बीजेपी किराया बढ़ा रही है तो एवीबीपी वाले प्रदर्शन करके जनता को बेवकूफ बनाने की कोशिश क्यों कर रहे है?

आपको बता दें कि दिल्ली मेट्रो का किराया अब दुगुना हो चुका है। ये रहा है बढ़ा हुआ किराया….

2 किलोमीटर- 10 रुपये

2-5 किलोमीटर- 20 रुपये

5-12 किलोमीटर-30 रुपये

12-21 किलोमीटर-40 रुपये

21-32 किलोमीटर-50 रुपये

31 किलोमीटर से ज्यादा- अधिकतम 60 रुपये