लखनऊ: अमित शाह और योगी के साथ संघ की बैठक में हो सकते है कई फेरबदल

नई दिल्ली: लोकसभा चुनाव और विधानसभा चुनाव को लेकर तमाम पार्टियां कोई न कोई रणनीति अपनाती नजर आ रहीं है.

बीजेपी संगठन, आरएसएस और योगी सरकार बुधवार को लखनऊ में मंथन करेंगे

बता दें कि केंद्र की सत्ता का रास्ता उत्तर प्रदेश से होकर गुजरता है. साल 2014 में भाजपा इसी रास्ते को जीतकर सत्ता पर अपना पूर्ण बहुमत के साथ विरजमान हुई थी. यहीं जीत को बरकरार रखने के लिए भाजपा इस बार भी यूपी में अपना दबदबा कायम करना चाहती है. जीत दोहराने के लिए बीजेपी संगठन, आरएसएस और योगी सरकार बुधवार को लखनऊ में मंथन करेंगे. बताया यह भी जा रहा है कि इस बैठक में यूपी कैबिनेट में फेरबदल को लेकर फैसला भी लिया जा सकता है. आगामी चुनाव से पहले समन्वय मीटिंग काफी मुख्य मानी जा रहीं है. इस बैठक के दौरान आने वाले लोकसभा चुनाव में सरकार, संगठन और संघ के बीच कैसा तालमेल किया जा सकें इसका फैसला होगा.

कौन-कौन होगा शामिल

इस मंथन में अमित शाह के साथ सह संगठन महासचिव शिवप्रकाश और यूपी प्रभारी बीजेपी महासचिव भूपेन्द्र यादव रहेंगे. बता दें कि इस बैठक में यूपी प्रभारी बीजेपी महासचिव भूपेन्द्र यादव, प्रदेश अध्यक्ष महेंद्रनाथ पांडेय, उपमुख्यमंत्री दिनेश शर्मा और और संगठन मंत्री सुनील बंसल भी शिरकत लेंगे. वहीं आरएसएस की ओर से संघ के सह सरकार्यवह डॉ. कृष्ण गोपाल और सह सरकार्यवाहक दत्तात्रेय हसबोले मौजूद  रहेंगे.

किन-किन चीजों पर किया जा सकता विचार-विमर्श

इस बैठक में योगी सरकार की कामकाज की समीक्षा, यूपी के तमाम सांसदों के रिपोर्ट कार्ड तैयार करने को लेकर विचार-विमर्श और SC/ST एक्ट के चलते सवर्ण जातियों की नाराजगी को कैसे कम किया जाए इस बार वार्ता होगी. ये ही नहीं केंद्र सरकार की योजनाओं को जल्द से जल्द कैसे जमीन पर जनता तक पहुंचाया जाए. हालांकि इनके मंत्रियों और विधायकों के बीच कैसे बेहतर संवाद स्थापित किया जाए. सर्कार और संगठन में रिक्त पदों पर योग्य नेताओं और कार्यकर्ताओं की लिस्ट तैयार कर साल के आखिर तक रिक्त पदों पर नियुक्ति को लेकर भी चर्चा होनी है.