जाने लॉकडाउन के दौरान दुनिया को सबसे बड़ा फायदा क्या पहुंचा?

LOCK DOWN
LOCK DOWN

जाने लॉकडाउन के दौरान दुनिया को सबसे बड़ा फायदा क्या पहुंचा?

कोरोना वायरस की वजह जहां दुनिया के शक्तिशाली देश कोरोना वायरस से निपटने के लिए अपनी मुहीम जारी कर दी है और दुनियभर के कई देशों में लॉक डाउन के निर्देश दे दिए गए है। वही कोरोना वायरस के कारण हुए लॉक डाउन से धरती की कंपन बहुत कम हो गयी है, वातावरण के सन्दर्भ में लॉक डाउन से सकारत्मक प्रभाव देखने को मिले है।

धरती का कंपन कम हो गया है यानी पूरी दुनिया में ध्वनि प्रदूषण इतना कम हो गया है कि अब भूकंप विज्ञानी बेहद छोटे स्तर के भूकंपों को भी भांप ले रहे हैं. जबकि, लॉकडाउन से पहले ऐसा करने में मुश्किल आती थी।

लॉकडाउन फायदा

गाड़ियों, फैक्ट्रियों, हॉर्न, तोड़फोड़ और निर्माण आदि के कारण से निकलने वाली आवाजें धरती के कंपन को बढ़ा देती हैं। इसके कारण दुनियभर में ध्वनि प्रदूषण का स्तर बहुत ज्यादा बढ़ गया था।

डेली मेल के खबर के मुताबिक ब्रिटिश जियोलॉजिकल सर्वे ने दुनिया के कुछ देशों के भूगर्भ वैज्ञानिकों के साथ मिलकर यह पता लगाया है। इनकी मानें तो कोरोना वायरस की वजह से पूरी दुनिया में लगाए गए लॉकडाउन की वजह से ध्वनि प्रदूषण कम हुआ है।

लंदन, पेरिस, लॉस एंजिलिस, बेल्जियम और न्यूजीलैंड में थॉमस लेकॉक के यंत्रों और तकनीक से की गई जांच से पता चला कि लॉकडाउन की वजह से हमारी धरती का कांपना कम हो गया है. ये एक बेहद खुशी की बात है।

लॉकडाउन के दौरान दुनिया को सबसे बड़ा फायदा

लॉक डाउन के कारण वायु , ध्वनि प्रदूषण का स्तर बहुत ज्यादा कम हो गया है , इससे असमान काफी ज्यादा साफ़ हो गया और पौधे -पक्षी को साफ़ हवा मिल रही है, इस बात को बिल्कुल भी नाकारा नहीं जा सकता कि कोरोना के कारण प्रदूषण का स्तर बहुत ज्यादा गिरा है। जहां इंसान घर में कैद है , वही बाहर पक्षी खुली हवा में सांस ले रहे है।

यह भी पढ़ें : कोरोना वायरस के कारण देश में सबसे पहले लॉकडाउन कौन से राज्य ने लगाया

यह भी पढ़ें : कोरोना वायरस के कारण देश में सबसे पहले लॉकडाउन कौन से राज्य ने लगाया