बाबा की ‘हनी’ को मनोहर सरकार ने भगाया?

25 अगस्त, को बाबा के जेल जाने के बाद से ही हनीप्रीत लापता है, पुलिस ने उसके खिलाफ लुकआउट नोटिस जारी कर दिया है और हनीप्रीत की तलाश जारी है। हनी के खिलाफ देशद्रोह का मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। उस पर बाबा को कोर्ट परिसर से भगाने की कोशिश करने का आरोप है।

 

हनीप्रीत को लापता होने के मामले में राजनीति गरमा रही है, राजनीतिक दल सीधे तौर पर आरोप लगा रहे हैं कि हनीप्रीत को भगाया गया है, सोमवार को अभय चौटाला ने कहा कि हनीप्रीत को मनोहर सरकार ने भगाया है। अभय चौटाला का आरोप है की सरकार की मिलीभगत से ही हनीप्रीत भागने में सफल हो पाई है।

 

इनेलो नेता और हरियाणा विधानसभा में नेता विपक्ष अभय सिंह चौटाला ने हरियाणा सरकार को आड़े हाथों लिया है। इस पूरे मामले में हरियाणा सरकार फेल रही है।
– चौटाला ने पुलिस और सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि अब हनीप्रीत को पुलिस व सरकार तलाश कर रही है जब वह 25 अगस्त को उनके पास थी तब गिरफ्तार क्यों नहीं कि गई।
– वास्तव में हनीप्रीत को भगाने में मनोहरलाल सरकार का हाथ है।
– उन्होंने भाजपा और कांग्रेस को आड़े हाथ लेते हुए कहा कि इन दोनों
पार्टियों ने गुरमीत राम रहीम को शह दी थी।
– भाजपा ने जनता के पैसे डेरा सच्चा सौदा और गुरमीत राम रहीम पर
लुटाए हैं। उन्होंने कहा कि पूर्व मुख्यथमंत्री भूपेन्द्र सिंह हुड्डा राम रहीम से
कई बार मुलाकात कर चुके हैं।
– उन्होंने कहा कि इनेलो काफी समय पहले ही राम रहीम से नाता तोड़ चुका था, क्योंकि वह राजनीति करता था।