कप्तान विराट कोहली की इन गलतियों की वजह से हारी टीम इंडिया

भारत और इंग्लैंड के बीच लॉर्ड्स में हुए दुसरे टेस्ट मैच में भारत की शर्मनाक हार हुई है. स्थिति इतनी ख़राब थी की अंग्रेजो ने भारत को पारी और 159 रनों से मात दे डाली. टेस्ट मैच की दोनों पारियों में भारत का कोई भी बल्लेबाज़ अर्धशतक तक नहीं बना सका. टॉप आर्डर से लेकर लोअर आर्डर तक कोई भी बल्लेबाज़ नहीं चला. भारत की इस हार पर सोशल मीडिया से लेकर लगभग हर जगह सवाल उठाये जा रहे है. कई लोग टीम इंडिया की खिचाई कर उन्हें घर का शेर भी कह रही है. ऐसे में कप्तान विराट कोहली ने हार की समीक्षा की और कहा की टीम के गलत चयन की वजह से वह हार गए. आईये नज़र डालते टीम मैनेजमेंट और कप्तान द्वारा की गई कुछ गलतियों पर.

खराब फॉर्म के बावजूद धवन को बिठा राहुल को खिलाना

कोहली का राहुल प्रेम टीम को काफी भारी पड़ गया. पहले टी-20 में 101 रनों की पारी खेलने के बाद से अब तक राहुल का बल्ला एक दम शांत रहा. पहले टेस्ट में उन्हें पुजारा की जगह खिलाया गया था. आलम यह रहा की मैच की दोनों पारियों में उन्होंने ने केवल 4 और 13 रन ही बनाये. फलत भारत 31 रन से पहला टेस्ट मैच हार गया.

उसके बाद भी कप्तान ने के.एल राहुल को लॉर्ड्स में शिखर की जगह मौका दिया लेकिन वहा भीं उन्होंने ने केवल 8 और 10 रन ही बनाये.

पुछल्ले बल्लेबाजों का बड़ा स्कोर बनाना

बर्मिंघम टेस्ट में सैम कुरेन टीम इंडिया के लिए सरदर्द साबित हुआ जब उन्होंने दूसरी पारी में इंग्लैंड का स्कोर सात विकेट पर 87 रन से 180 तक पहुंचा दिया.

लॉर्ड्स टेस्ट में क्रिस वोक्स ने सातवें नंबर पर बल्लेबाजी करते हुए अपने करियर का पहला शतक जड़ते हुए नाबाद 137 रनों की पारी खेलकर टीम इंडिया को मैच से बाहर कर दिया. वोक्स जब बल्लेबाजी के लिए आए तो उस समय इंग्लैंड का स्कोर 5 विकेट पर 131 रन था. उन्होंने छठे विकेट के लिए जॉनी बेयरस्टॉ के साथ मिलकर 189 रनों की साझेदारी कर दी.

उमेश यादव की जगह कुलदीप यादव को खिलाना

लॉर्ड्स टेस्ट में पहले से ही बारिश का पूर्व अनुमान था लेकिन उसके बावजूद टीम में दो स्पिनर्स खिलाना बेहद ही बेवकूफी भरा फैसला रहा. कुलदीप मैच में एक भी विकेट नहीं ले पाए और ना ही इंग्लैंड की टीम को ऑल आउट करने में भारतीय गेंदबाज़ सफल हो पाए. हालत यह रही की विपक्षी टीम ने एक ही इन्निंग्स में 396 रन ठोक डाले.

विकेटकीपिंग और बल्लेबाज़ी  में फ्लॉप हो रहे दिनेश कार्तिक को बरकरार रखना

ऋद्धिमान साहा की जगह भारतीय टीम में शामिल किए गए विकेटकीपिंग बल्लेबाज दिनेश कार्तिक न विकेटकीपिंग ठीक से कर पा रहे हैं और न ही बैटिंग. बर्मिंघम से लेकर लॉर्ड्स तक कुछ भी नहीं बदला कार्तिक विकेट के पीछे जूझते हुए नजर आए. इसके अलावा बल्लेबाजी में कार्तिक ने बर्मिंघम टेस्ट में 0 और 20 रन बनाए. कार्तिक ने लॉर्ड्स टेस्ट मैच में 1 और 0 रन बनाए.

हालाँकि विराट कोहली भी अपने फैसलों से काफी नाराज़ दिखाई दिए. उन्होंने सोशल मीडिया पर देशवासियो   से बाकी बचे हुए मेचों के लिए समर्थन भी माँगा है.