अमित शाह और नीतीश कुमार की अहम मुलाकात हुई खत्म, कुछ इस अंदाज में बाहर जाते हुए नजर आए सीएम

पटना: आगामी चुनाव को लेकर भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष अमित शाह अपने दो दिवसीय दौरे के लिए आज पटना पहुंच चुके है. इस दौरान उनका एअरपोर्ट में भाजपा के कार्यकर्ताओं ने काफी शानदार तरीके से स्वागत किया है.

शाह की राजकीय अतिथिशाला में नाश्ते पर बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के साथ मुलाकात 

इस दौरान शाह राजकीय अतिथिशाला में नाश्ते पर बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के साथ मुलाकात करते नजर आए थे. इस दौरान बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशीला मोदी और बिहार भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष  नित्यानंद राय सहित कई भाजपा पार्टी के नेता मौजूद रहे. इस मुलाकात के खत्म हो जाने के तुरंत बाद ही नीतीश कुमार अपने आवास के लिए निकल गए थे. इस दौरान शाह उन्हें गेट पर छोड़ने आए थे. माना जा रहा है कि इस मुलाकात का असर चुनावों में देखने को मिलेगा. बता दें कि गेस्ट हाउस से निकलते हुए दोनी ही नेता काफी खुश दिखाई दिए थे. कयास है कि इस मुलाकात के दौरान दोनों नेताओं के बीच सीट बंटवारे को लेकर विचार-विमर्श भी हुआ होगा.

शाह के लिए कई व्यंजनों को परोसा गया

आपको बता दें कि नाश्ते के वक्त शाह को सत्तू के पराठे, उपमा, कचौड़ी, चने की सब्जी, नेनुआ (तोरई) की सब्जी परोसी गई थी. इस दौरान उनको अन्य चीजों भी परोसी गई जैसे आलू की सब्जी, दही का मट्ठा, लस्सी, फल जैसे सेब, पपीता और आम का भी नाश्ते में इंतजाम किया गया था. इस उपरांत कई अन्य पकवानों का भी इंतजाम किया गया था. बिहार, गुजरात और राजस्थान सहित कुछ दक्षिण के राज्यों के व्यंजन भी शामिल किए गए थे.

राजकीय अतिथिशाला में अमित शाह और नीतीश कुमार सहित कुल 50 लोगों को पोहा, हिंग, उपमा और सत्तू जैसे व्यंजन परोसे गए थे. नाश्ते के बाद शाह ज्ञान भवन जाएंगे. इस दौरान वो आईटी शेल के कार्यकर्ताओं और विस्तारकों को भी संबोधित करते नजर आएंगे. इस सबको देखते हुए शाह की सुरक्षा व्यवस्था को काफी बढ़ाया गया है.

यह भी पढ़ें: मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का बयान कहा, जेडीयू और बीजेपी में राष्ट्रीय स्तर पर कोई भी गठबंधन नहीं

इस मुलाकात को दोनों ही पार्टियों के लिए काफी अहम माना जा रहा है. अनुमान है कि इस दौरान दोनों दलों के नेताओं ने सीट शेयरिंग और लोकसभा चुनाव की रणनीतियों पर वार्ता भी होने की उम्मीद है. इस दौरे को लेकर न केवल बिहार की सत्ता पक्ष के नेताओं की नजर है बल्कि विपक्षी पार्टी भी इस दौरे को लेकर निगाहें रखी होगी. साल 2015 के बिहार विधानसभा चुनाव के बाद से शाह की यह पहली बिहार दौरा है.