Friday, August 14, 2020
Home Breaking News Hindi IITM में एलईडी खरीद के नाम पर फर्जीवाड़े का खेल, CBI ने...

IITM में एलईडी खरीद के नाम पर फर्जीवाड़े का खेल, CBI ने दर्ज किया केस

- Advertisement -

नई दिल्‍ली: सीबीआई ने IITM, पुणे में स्‍वच्‍छता प्रोजेक्‍ट के तहत पुणे शहर में 12 ट्रू कलर एलईडी लगाने में फर्जीवाड़े का मामला दर्ज कर पुणे और मुंबई में छापेमारी की है. ये मामला पुणे IITM के साइटिंस्ट गुफरान बेग, विपिन आर माली और वीडियो वाल कंपनी के मैनेजिंग डायरेक्टर अनिल चंद्रकांत समेत 7 आरोपियों के खिलाफ दर्ज किया गया है.

CBI के मुताबिक IITM के साइटिंस्ट गुफरान बेग पुणे में इस प्रोजेक्‍ट के निदेशक थे और साल 2011-2018 के बीच शहर में 12 True Colour LED लगाने का प्रस्ताव था. जिसके लिये IITM ने टेंडर निकाले. इस टेंडर में अनिल चंद्रकांत की कंपनी के साथ दूसरी कंपनियों ने भी हिस्सा लिया लेकिन बिना किसी ठोस कारण के बाकी कंपनियों को इस पूरी प्रक्रिया से बाहर कर दिया गया और 12 LED लगाने का टेंडर अनिल चंद्रकांत को दे दिया गया.

CBI ने दिसंबर 2019 में इस फर्जीवाड़े की शिकायत दर्ज कर जांच शुरू की जिसमें पता चला कि फरवरी 2012 में अनिल चंद्रकांत को जो टेंडर दिया गया था उसके मुताबिक जो 12 LED डिस्‍प्‍ले बोर्ड आने थे वो Nichia के या फिर उसके बराबर की कंपनी के होने चाहिये थे लेकिन इसके बदले में घटिया क्वालिटी के चाइनीज़ कंपनी के बल्ब और डिस्पले बोर्ड सप्लाई किए गए.

इन LED बोर्ड की कीमत उस समय 39,585 रुपये थी और हर बोर्ड में 8 यूनिट LED लगनी थी यानी कीमत हुई 3,16,680 रुपये. टेंडर के मुताबिक 12 LED डिस्‍प्‍ले बोर्ड लगाये जाने थे और इस हिसाब से अनिल चंद्रकांत ने 12 डिस्‍प्‍ले बोर्ड 38 लाख के लिये लेकिन IITM के साथ मिलीभगत कर ये डिस्‍प्‍ले 8 गुना ज्यादा कीमत 2,98,20,000 पर दिये.

गुफरान बेग ने जांच में चाइनीज़ सामान को ठीक बताया और बिल पास करने की मंजूरी दे दी. इसके अलावा टेंडर में शर्त थी की डिस्‍प्‍ले बोर्ड को आर्डर मिलने के बाद 31 मार्च 2012 तक पूरा करना था लेकिन इसमें भी देरी की गई. शर्तों के मुताबिक अगर टेंडर देरी से पूरा किया गया तो खरीद के हिसाब से 1 प्रतिशत से 10 प्रतिशत जुर्माना भी देना होगा लेकिन बावजूद साल भर देरी के अनिल चंद्रकांत से कोई जुर्माना नहीं लिया गया.

शुरूआती जांच के बाद CBI ने इस फर्जीवाड़े पर गुफरान बेग और अनिल चंद्रकांत समेत 7 लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया और छापेमारी कर अहम दस्तावेज बरामद किये. CBI के मुताबिक इस मामले में काफी अहम सबूत मिल चुके है और जल्द ही आरोपियों की गिरफ्तारी हो सकती है.

यह भी पढ़ें :Face mask को धोने और रख-रखाव के क्या तरीके है?

Source link

- Advertisement -
- Advertisment -

Most Popular