Home Breaking News Hindi CAA के समर्थन में प्रदर्शन कर रहे बीजेपी नेता को महिला कलेक्टर...

CAA के समर्थन में प्रदर्शन कर रहे बीजेपी नेता को महिला कलेक्टर ने जड़ा थप्पड़

- Advertisement -

मध्यप्रदेश के राजगढ़ जिले में रविवार को नागरिकता कानून को लेकर काफी हंगामा हुआ है और कुछ लोग जो CAA के समर्थन में तिरंगा यात्रा निकाल रहे बीजेपी के कार्यकर्ताओं और प्रशासन के बीच टकराव हुआ. जिसके बाद राजगढ़ की कलेक्टर निधि निवेदिता ने धारा 144 लागू होने के कारण बीजेपी कार्यकर्ताओं को प्रदर्शन करने से रोका, लेकिन प्रदर्शनकारियों ने एक न सुनी. इस बीच कलेक्टर की कार्यकर्ताओं से बहस हो गई, जिसके बाद कार्यकर्ता ने एक नेता को थप्पड भी जड़ दिया.

इसी दौरान विवाद बढ़ता ही गया और पुलिस के साथ-साथ कलेक्टर भी बीजेपी कार्यकर्ताओं को नियंत्रित करने के लिए काफी संघर्ष करती हुईं नजर आईं. हालात बिगड़ने पर पुलिस ने लाठीचार्ज करना शूरू कर दिया. इसी बीच दो कार्यकर्ता बूरी तरह से घायल हो गए. राजगढ़ जिला मुख्यालय पर संशोधित नागरिकता कानून के समर्थन में बीजेपी के कार्यक्रम को धारा 144 लागू होने के कारण अनुमति नहीं दी गई.

जिसके बावजूद कानून की परवाह न करते हुए भाजपाई एकत्रित हो गए राजगढ़ की कलेक्टर निधि निवेदिता और पुलिस अधीक्षक ने बीजेपी कार्यकर्ताओं को रोकने का भरसक प्रयास किया, लेकिन भीड़ नहीं मानी. इस बीच हालात इतने खराब हो गए थे कि पुलिस प्रशासन और भाजपाइयों के बीच धक्कामुक्की होने लग गई.

धक्कामुक्की और प्रर्दशन के दौरन महिला अधिकारी के साथ अभद्रता की घटना भी सामने आई, उनके कपड़े पकड़े गए. एसडीएम प्रया वर्मा ने भी भीड़ को नियंत्रित करने की कोशिश की, उन्होंने शांति पूर्ण भीड़ को जमीन पर बैठने को कहा, इसका एक वीडियों भी वायरल हो रहा है जिसमें साफ-साफ प्रदर्शनकारियो को थप्पड मारते हुए भी दिखाया गया है. इसी के साथ बहस और भीड़ पर काबू पाने के लिए काफी जद्दोजहद करते दिखाई देए है.

पूर्व सीएम चौहान ने लिखा, ‘कलेक्टर मैडम, आप यह बताइए कि कानून की कौन सी किताब आपने पढ़ी है जिसमें शांतिपूर्ण प्रदर्शन कर रहे नागरिकों को पीटने और घसीटने का अधिकार आपको मिला है? सरकार कान खोलकर सुने ले, मैं किसी भी कीमत पर मेरे प्रदेश वासियों के साथ इस प्रकार की हिटलरशाही बर्दाश्त नहीं करूंगा.’

यह भी पढे़ं : मध्य प्रदेश के धार जिले के जंगल में स्थित है बजरंग बली का पावन स्थल

चौहान ने कहा, ‘शासन-प्रशासन के अधिकारी-कर्मचारी गलती से भी यह न भूलें कि सरकारें परमानेंट नहीं होती हैं, वो बदलती हैं. बुराई का अंत और अच्छाई की विजय निश्चित है, इसलिए नागरिकों की सेवा की ज़िम्मेदारी, जो आपको मिली है, उसे निभाने में अपनी ऊर्जा, जज़्बा, जुनून और मेहनत लगाएं.

- Advertisement -
- Advertisment -

Most Popular

देश में क्‍यों पैदा हुआ आलू की सप्‍लाई का संकट?

नई दिल्ली: चीन (China) के बाद भारत (India) दुनिया का सबसे बड़ा आलू (Potato) उत्पादक है, लेकिन विगत कुछ महीने से देश में...

In ‘ghar wapsi’ mode, 50 militants in J&K have surrendered in 2020

In an overnight encounter at Noorpora, Tral, the residential neighbourhood of...

IPL 2020: SRH inch closer to qualification after 5 wicket win over RCB

Jason Holder cameo at the end got SunRisers Hyderabad (SRH) over...

France: Greek Orthodox priest shot in Lyon, assailant flees

A Greek Orthodox priest was shot and injured on Saturday at...