कोरोना: दिल्‍ली में मरीजों के ठीक होने की दर 76% पहुंची, 2 हजार से नए मामले

कोरोना: दिल्‍ली में मरीजों के ठीक होने की दर 76% पहुंची, 2 हजार से नए मामले
Monthly / Yearly free trial enrollment

नई दिल्‍ली: केंद्रीय गृह मंत्रालय ने कहा कि संयुक्त प्रयासों की वजह से राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में हाल के दिनों में कोविड-19 संबंधी स्थिति में उल्लेखनीय सुधार हुआ है, जहां मरीजों के ठीक होने की दर में सुधार होने के साथ ही संक्रमण के मामलों के दुगुना होने की अवधि बढ़ी है, जबकि दिल्ली में गुरुवार को कोरोना वायरस के 2,187 नये मामले सामने के बाद संक्रमितों की संख्या बढ़कर 1,07,051 तक हो गई.

दिल्ली के स्वास्थ्य विभाग के बुलेटिन के अनुसार, संक्रमण के कारण 45 और मौत होने से मरने वालों की संख्या बढ़कर 3,258 हो गई. दिल्ली में अब इलाजरत मरीजों की संख्या 21,567 रह गई है, जो पिछले 28 दिनों (12 जून से) में सबसे कम है.

बुलेटिन के अनुसार, इसके अलावा, 4,027 लोग ठीक हुए हैं, जो पिछले 19 दिनों (21 जून से) में सबसे अधिक है. दिल्ली में अब तक 82,226 लोग बीमारी से ठीक हो चुके हैं, जिसके चलते मरीजों के ठीक होने की दर बढ़कर 76 प्रतिशत तक पहुंच गई है. मरीजों के ठीक होने की राष्ट्रीय दर 62 प्रतिशत है.

सिसोदिया ने कहा- अर्थव्यवस्था को उबारने के लिए तैयार है दिल्ली
इस बीच दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने खुदरा और ई-कॉमर्स कंपनियों को राष्ट्रीय राजधानी में निवेश का न्योता देते हुए कहा है कि कई तरह की चुनौतियों के बावजूद दिल्ली कोविड-19 से प्रभावित अपनी अर्थव्यवस्था को उबारने की तैयारी में जुटी है.

सिसोदिया ने गुरुवार को ‘इन्वेस्ट इंडिया एक्सक्लूसिच इन्वेस्टमेंट फोरम’ को वीडियो लिंक के जरिये संबोधित करते हुए कहा कि कोविड-19 महामारी का प्रतिकूल वित्तीय प्रभाव उसके स्वास्थ्य प्रभाव से अधिक लंबा खिंचेगा. सिसोदिया के पास वित्त मंत्रालय का भी प्रभार है.

एक आधिकारिक बयान में कहा गया है कि केंद्र की राष्ट्रीय निवेश संवर्द्धन और सुविधा एजेंसी इन्वेस्ट इंडिया द्वारा आयोजित फोरम का मकसद राज्य सरकार और संभावित निवेशकों को एक साझा मंच पर लाना है. इसके जरिये वे विचारों को साझा कर सकते हैं, अनुकूल नीतियों के बारे में बता सकते हैं. साथ ही इस के जरिये संभावित निवेशकों को तैयार बुनियादी ढांच और दिल्ली के औद्योगिक पारिस्थतिकी तंत्र का और ब्योरा मिलेगा.

सिसोदिया ने कहा कि महामारी की वजह से पैदा हुई कई चुनौतियों के बावजूद दिल्ली अपनी अर्थव्यवस्था के पुनरोद्धार के लिए तैयार हो रही है.

कंपनियों के लिये दिल्ली किस प्रकार से बेहतर निवेश अवसर उपलब्ध कराती है इसके बारे में सिसोदिया ने कहा, ‘‘दिल्ली अवसरों का शहर है. हमारी राज्य जीडीपी पिछले सात साल के दौरान दोगुनी हुई है और प्रति व्यक्ति आय 3,89,000 रुपये वार्षिक है जो कि राष्ट्रीय औसत के मुकाबले तीन गुणा अधिक है.

यह भी पढ़ें :क्या नमक के पानी से फल या सब्जी धोने से कोरोना वायरस खत्म हो जाता है?

Source link