दिल्ली चुनाव: दिल्ली में कांग्रेस नेता लगातार छोड़ रहे पार्टी का साथ, नया ठिकाना बन रही AAP

aam aadmi party
दिल्ली चुनाव: दिल्ली में कांग्रेस नेता लगातार छोड़ रहे पार्टी का साथ, नया ठिकाना बन रही AAP

दिल्ली विधानसभा चुनाव में कांग्रेस की मुश्किलें कम होने के बजाय बढ़ती ही जा रही है. एक तरफ जहां कांग्रेस अपने वजूद को बचाए रखने के लिए संघर्ष कर रही है तो वहीं दूसरी कांग्रेस कुछ दिग्गज नेता पार्टी को छोड़ने का सिलसिला जारी शुरू हो गया है. अब ये नेता आम आदमी पार्टी को में अपना नया ठिकाना बना रही है. दिल्ली में कांग्रेस के तीन पूर्व विधायको और एक पूर्व सांसद के बेटे ने पार्टी का साथ छोड़कर केजरीवाल का दामन थाम लिया.

राम सिंह जो बदरपुर विधानसभा सीट से दो बार विधायक रह चुके हैं. राम सिंह जो बदरपुर 1998 में वो पहली बार निर्दलीय विधायक बने थे और दूसरी बार 2008 में बसपा से जीत दर्ज की थी. जिसमें उन्होंने कांग्रेस का दामन थाम लिया था. इसके बाद 2013 और 2015 में हुए चुनाव में राम सिंह कांग्रेस उम्मीदवार के तौर पर चुनावी मैदान में उतरे थे, लेकिन जीत हासिल नहीं की थी. वहीं, पूर्व सांसद महाबल मिश्र के बेटे विनय कुमार मिश्र जमीनी नेता माने जाते हैं और पूर्वांचली मतदाताओं के बीच उनकी अच्छी-खासी पकड़ है.

कांग्रेस के इन दोनों नेताओं के साथ कई पूर्व पार्षद भी आम आदमी पार्टी में शामिल हो गए हैं. राम सिंह के साथ कांग्रेस में शामिल होने वाले नेताओं में हेमचंद गोयल, यूथ कांग्रेस के जिला अध्यक्ष रत्नेश भाटी, बदरपुर से निगम पार्षद पवन कुमार, प्रदेश कांग्रेस कमेटी के सदस्य शिवेंद्र नागर, राजेश कुमार और संजय प्रधान के नाम हैं. वहीं, महाबल मिश्रा के बेटे विनय कुमार मिश्रा के साथ प्रदेश कांग्रेस कमेटी के सदस्य लल्लन शर्मा और रोहिणी से पार्षद जय भगवान उपकार ने भी आम आदमी पार्टी में शामिल हो गए है.

यह भी पढ़ें : केजरीवाल और मनोज तिवारी में हुआ ‘वीडियो वॉर’, BJP पहुंची चुनाव आयोग

वहीं मटिया महल सीट से पांच बार के विधायक रहें शोएब इकबाल ने भी कांग्रेस का दामन छोड़कर आम आदमी पार्टी की सदस्यता में शामिल हो गई है. पुरानी दिल्ली के इलाकों में पुरानी दिल्ली के इलाकों में शोएब इकबाल की अच्छी-खासी पकड़ मानी जाती है. 2015 के चुनाव में आम आदमी पार्टी के असीम अहमद खान ने शोएब इकबाल को हराकर कब्जा किया था. यही कारण है कि केजरीवाल ने असीम अहमद खान को मंत्री पद से नवाजा था, लेकिन बाद में उन्हें मंत्री पद से हटा दिया था. शोएब इकबाल के आने से यह सीट AAP के लिए काफी मजबूत मानी जा रही है.