हो सकती है दिल्ली मेट्रो की हड़ताल !

दिल्ली वालों के रग- रग में दौड़ने वाली मेट्रो में हड़ताल होने की संभवानाएं जताई जा रही है। जी हां, दिल्ली मेट्रो के सभी कर्मचारी सोमवार से हड़ताल पर जाने की बात कर रहे है। मेट्रो कर्माचारियों का कहना है कि अगर उनकी मांगें पूरी नहीं की जाएंगी तो वे सोमवार से काम पर नहीं जाएंगे। अगर ऐसा हुआ तो दिल्ली वालों को भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है। आपको बता दें कि बीते शुक्रवार को बदरपुर, विश्वविद्यालय, कुतुब मीनार, शाहदरा समेत सात अन्य मेट्रो स्टेशनों पर विरोध प्रदर्शन किया गया।

दिल्ली मेट्रो रेल कॉर्पोरेशन की स्टाफ काउंसिल के सेक्रटरी अनिल कुमार महतो के मुताबिक 29 मई 2015 को डीएमारसी में अग्रीमेंट हुआ था कि कर्मचारियों को बढ़े हुए पे-स्केल के अनुसार ही वेतन दिया जाएगा। फिलहाल इसको लागू नहीं किया गया है, जिसकी वजह से नाराज कर्मचारियों ने हड़ताल करने का ऐलान कर दिया है। कर्मचारियों का कहना है कि रविवार को सभी कर्मचारी यमुना बैंक स्टेशन पर एकत्रित होंगे, यदि उनकी मांगें पूरी नहीं की जाएगी तो वे हड़ताल पर जाएंगे।

मामला सिर्फ वेतन का ही नहीं है बल्कि कर्मचारियों ने कई गंभीर आरोप भी डीमएआरसी पर लगाए है। काउंसिल ने आरोप लगाया है कि विभाग के जो भी एग्जाम होते हैं, उसके पेपर बड़े अधिकारी लीक कर देते हैं। पिछले साल काउंसिल की ओर से सबूत के साथ शिकायत की गई थी। मामले की क्या जांच हुई,इसकी रिपोर्ट आज तक नहीं दी गई।

दिल्ली मेट्रो के प्रवक्ता अनुज दयाल का कहना है कि एचआर विभाग काउंसिल की मांग को ध्यान में रखते हुए मामलें को सुलझानें की कोशिश कर रहा है। साथ ही उन्होंने ये भी कहा कि तीसरे वेतन आयोग की सिफारिशों को सरकार मान चुकी है, जल्द ही सैलरी के मुद्दे को सुलझाया जाएगा। कर्मचारियों के कुछ और मांगों के बारे में उनका कहना है कि यह कार्रवाई अनुशासनहीनता से जुड़ी हुई है। बहरहाल उन्होंने यह भी कहा कि मेट्रो सर्विस बाधित न हो, इसका ध्यान रखा जाएगा।

आपको बता दें कि दिल्ली-एनसीआर में करीब 300 मेट्रो ट्रेन दौड़ती हैं। इनमें 30 से 35 लाख यात्री रोजाना सफर करते हैं। ऐसे में अगर मेट्रो कर्मचारी हड़ताल पर जाएंगे तो दिल्ली वालों को कई मुश्किलों का भी सामना करना पड़ेगा। ऐसे में इस मामले की सीबीआई जांच होनी चाहिए।