भाजपा की गिरी सरकार,’ CM कौन होगा?’, संशय अब भी बरकरार

भाजपा की गिरी सरकार
भाजपा की गिरी सरकार,' CM कौन होगा?', संशय अब भी बरकरार

महाराष्ट्र में चुनाव हुए लगभग एक महीना हो चुका है। लेकिन मुख्यमंत्री कौन बनेगा अभी तक साफ़ नहीं हो पाया है। यहाँ पर काफी सियासी उठापटक चल रही है। पहले राष्ट्रपति शासन लगा। उद्धव ठाकरे मुख्यमंत्री बने फिर देवेंद्र फडणवीस। अब देवेंद्र फडणवीस ने मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया है।

फडणवीस ने मंगलवार को कहा कि वह अजीत पवार के बाद मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे रहे हैं। अजित पवार ने उन्हें समर्थन देने की पेशकश की थी। अजित पवार ने सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर फ्लोर टेस्ट से एक दिन पहले गठबंधन छोड़ने का फैसला किया।

एक प्रेस बैठक में फडणवीस ने कहा कि उन्होंने सरकार बनाई है क्योंकि लोगों का जनादेश भाजपा गठबंधन के पक्ष में था। उन्होंने शुरू में दावा नहीं किया था क्योंकि उनके सहयोगी शिवसेना ने उनका समर्थन करने से इनकार कर दिया था। लेकिन जब अजित पवार ने समर्थन की पेशकश की, तो उन्होंने सरकार बनाने और अपनी पार्टी को दिए गए जनादेश को पूरा करने का फैसला किया।

उन्होंने कहा, “चुनाव में, पार्टी को स्पष्ट बहुमत दिया गया और भाजपा को सबसे ज्यादा 105 सीटें मिलीं। हमने शिवसेना के साथ चुनाव लड़ा, लेकिन यह जनादेश भाजपा के लिए था क्योंकि हमने 70 प्रतिशत सीटें जीती थीं।”

उन्होंने कहा कि मंगलवार दोपहर को समर्थन वापस लेने के अजीत पवार के फैसले ने हालांकि सरकार बनाने के लिए जरूरी विधायकों से थोड़ा कम रह गए। इसलिए पद से इस्तीफा देने के अलावा और कोई विकल्प नहीं बचा।

यह भी पढ़ें: रात भर माँ-बाप की लाश के पास बैठी रही 3 साल की बच्ची, सुबह नाना के फोन आने पर खुद दी घटना की जानकारी

फड़नवीस ने अवसरवादी होने के शिवसेना-एनसीपी-कांग्रेस गठबंधन को जिम्मेदार ठहराया और कहा कि उनका मकसद भाजपा को सत्ता से बाहर रखना है।

फडणवीस ने मीडियाकर्मियों को बताया, “हमने तय किया था कि हम कभी भी विधायकों की खरीद फरोख्त जैसी चीज़ों में लिप्त नहीं होंगे और न ही किसी विधायक को भगाने की कोशिश नहीं करेंगे। लोगों का कहना गलता है कि हम लोग खरीद फरोख्त करते हैं।”