छह महीने से थी कुंबले-कोहली की बातचीत बंद, सब प्रयास रहे विफल ।

छह महीने से थी कुंबले-कोहली की बातचीत बंद, सब प्रयास रहे विफल ।

भारतीय कप्तान विराट कोहली और पूर्व कोच अनिल कुंबले के बीच चल रही तकरार के चलते कुंबले ने मंगलवार को कोच पद से इस्तीफा दे दिया । कप्तान और कोच के बीच रिश्तों में इतनी खटास आई कि पिछले छह महीने से उनके बीच कोई बातचीत नहीं हो रही थी । बुधवार को बीसीसीआई के एक शीर्ष अधिकारी ने इस बात का खुलासा किया कि विराट कोहली और अनिल कुंबले ने पिछले छह महीने से आपस में कोई बात नहीं की है।

बीसीसीआई को हुई हैरानी
बीसीसीआई के शीर्ष अधिकारी ने कहा कि बोर्ड को यह आभास पहले ही हो चुका था कि कोच और कप्तान के बीच सबकुछ सही नहीं चल रहा है। लेकिन जब उन्हें हाल ही में यह पता चला कि विराट कोहली और अनिल उम्ब्ले पिछले छह महीने से आपस में बात नहीं कर रहे थे तो वे हैरान रह गए।
पिछले साल दिसंबर में इंग्लैंड के खिलाफ घरेलू टेस्ट सीरीज समाप्त होने के बाद से विराट और कुंबले ने एक-दूसरे से बात करना बंद कर दिया था। रविवार को चैपियंस ट्रॉफी के फाइनल के बाद वे एक-दूसरे के साथ बैठे, जहां वे दोनों इसपर सहमत थे कि उनका अब साथ काम करना मुमकिन नहीं होगा ।

सीएसी ने रखी थी शर्त
अधिकारी ने बताया कि एक और महत्वपूर्ण बात सामने आई कि सचिन तेंदुलकर, सौरव गांगुली और वीवीएस लक्ष्मण कि मुख्य सलाहकार समिति ने भी कुंबले का कार्यकाल बढ़ाने को सीधे तौर पर हामी नहीं दी थी। सीएसी ने कुंबले का कार्यकाल बढ़ाने के लिए शर्त रखी थी कि कोच और कप्तान के बीच सभी मसलो को सुलझाने के बाद ही कुंबले को रिटेन किया जायेगा।

नहीं बनी बात
चैंपियंस ट्रॉफी फाइनल के बाद भारतीय टीम के साथ तीन अलग-अलग बैठक हुई । पहली बैठक में कुंबले बीसीसीआई के शीर्ष पदाधिकारियों और दूसरी में सीएसी सदस्यों से मिले। इसके बाद उन्होंने कप्तान कोहली के साथ बैठक की। इन दोनों के बीच बातचीत पूरी तरह से नाकाम रही क्योंकि उनके बीच किसी भी तरह की बातचीत ही नहीं हो पाई ।