Sunday, August 16, 2020
Home Breaking News Hindi जानें माता वैष्णों देवी की चढ़ाई पर कितनी सीढ़ियां हैं ?

जानें माता वैष्णों देवी की चढ़ाई पर कितनी सीढ़ियां हैं ?

- Advertisement -

जानें माता वैष्णों देवी की चढ़ाई पर कितनी सीढ़ियां हैं

माता वैष्णो देवी मंदिर तक की यात्रा को देश के सबसे पवित्र और कठिन तीर्थ यात्राओं में से एक मानी जारी है और इसकी वजह ये है कि माता का दरबार जम्मू-कश्मीर स्थित त्रिकूटा की पहाड़ियों में एक गुफा में है, जहां तक पहुंचने के लिए 12 –13 किलोमीटर की मुश्किल चढ़ाई करनी पड़ती है. वैष्णो देवी मंदिर, हिन्दू मान्यता अनुसार, शक्ति समर्पित पवित्रतम हिंदू मंदिरों में से एक है, इस धार्मिक स्थल की आराध्य देवी, वैष्णो देवी को सामान्यतः माता रानी और वैष्णवी के नाम से भी जाना जाता है.

आप भी अगर यहां कि यात्रा करना चाहते हैं तो आपको बता दें कि यहां पर आप सीढ़ियों या फिर ढलान वाले रस्ते से जा सकते हैं. आपके मन में एक सवाल जरूर उठ रहा होगा कि यह मंदिर समुंद्र तट से 5300 फीट की उंचाई पर है, तो वहां पर कितनी सीढ़ियां हैं. चलिए आज जानते हैं कि वैष्णों देवी माता के मंदिर में कितनी सीढ़ियां हैं.

कटरा फाटक के शुरू होने से ठीक पहले एक बहुत छोटा मंदिर है और वहाँ से, 740 कदम हैं, जो आपको 1.3 किलोमीटर बचाएंगे. इस बिंदु से 60 कदम और आगे चलकर आप “चरण पादुका मंदिर” तक पहुंचेंगे.

यह भी पढ़ें: जानें दिल्ली में केंद्र सरकार के अस्पतालों के नाम और पता

5 Km तक के बिंदु तक सीढ़ियों की गिनती-

160, 360, 540, 560 है. उस बिंदु के बाद बहुत ज्यादा ऊँचाई हैं. वहां पर सीढ़ियां अनुमानित लगभग 3200+ या अधिक हैं. भैरोनाथ में सीढ़ी की संख्या लगभग 140, 120, 360 के करीब है.

कुल मिलाकर देखें तो यहां 3500 से 4500 के करीब सीढ़ियां हैं. ( सीढ़ियों की संख्या Ashish Shukla की Quora Post से ली गई हैं )

Today latest news in hindi के लिए लिए हमे फेसबुक , ट्विटर और इंस्टाग्राम में फॉलो करे | Get all Breaking News in Hindi related to live update of politics News in hindi , sports hindi news , Bollywood Hindi News , technology and education etc.

- Advertisement -
mm
Kapil Jakharhttps://www.news4social.com/
Motivational Speaker , Comedian, Content writer , Anchor & Sayar
- Advertisment -

Most Popular

माल भाड़े के रेवेन्यू को बढ़ाने के लिए रेलवे ने पहली बार असम से अरुणाचल भेजी ये चीज

नई दिल्ली: माल भाड़े से मिलने वाले रेवेन्यू को बढ़ावा देने के लिए रेलवे ने अनूठी कोशिश की है. इसके तहत पहली बार...

Hyderabad: Zoo names tiger cub after Galwan martyr Col Santosh Babu

One of the three cubs born to a Royal Bengal tigress...