Home Breaking News Hindi चुनाव की गहमागहमी के बीच ‘बंद’ से गरमाया कर्नाटक का माहौल

चुनाव की गहमागहमी के बीच ‘बंद’ से गरमाया कर्नाटक का माहौल

- Advertisement -

कर्नाटक में आगामी विधानसभा चुनाव के कारण माहौल काफ़ी गरम है. अभी हाल ही में कर्नाटक के भाजपा विधायक सुनील कुमार ने काफ़ी तीखे बयान दिए हैं. राज्य की दो बड़ी पार्टियां कांग्रेस और भाजपा चुनावी माहौल को अपने पक्ष में करने की कोशिश में लगी हुई है. यही कारण है कि आज कर्नाटक बंद होने की खबरें सामने आ रही है. ताज़ा मामलों में चुनाव के इस मुद्दे के तहत कर्नाटक के लोग और किसान आज महादयी नदी विवाद को लेकर कर्नाटक बंद कर रहे हैं.

पानी के बंटवारे की लड़ाई

जानकारी के मुताबिक़ महादयी नदी का विवाद तूल पकड़ता नज़र आ रहा है. दरअसल, महानदी एक सहायक नदी है, जिसके मार्ग को लेकर गोवा और कर्नाटक में काफी पहले से विवाद कायम है. पानी के बंटवारे को लेकर गोवा सरकार और कर्नाटक सरकार में विवाद चल रहा है.

महादयी नदी विवाद पर केंद्र सरकार के मनमाने और निराशाजनक व्यवहार से किसान और अन्य स्थानीय कन्नड़ संगठन काफ़ी नाराज़ है. इसीलिए उन्होंने 25 जनवरी यानी गुरुवार को राज्यवापी बंद करने का ऐलान किया है.

स्कूल, ऑफिस सब बंद

बता दें कि कर्नाटक में राज्यव्यापी बंद होने के कारण खासा असर पड़ने की संभावना है और जन-जीवन भी प्रभावित हो सकता है.  बंद के ऐलान से राज्य के सभी निजी प्राथमिक और माध्यमिक विद्यालयों को गुरुवार को बंद रखने की सलाह दी गई है. हालांकि, सरकारी स्कूलों को लेकर अभी ऐसी कोई अधिसूचना जारी नहीं की गई है.  बेंगलुरु के आईटी कंपनियों ने कर्नाटक बंद की खबर सुनते ही अपने कर्मचारियों को घर से काम करने की सलाह दी है. कन्नड़ संगठनों ने कई ऑपरेटर्स से बंद को सफल बनाने की अपील भी की है.

महादयी नदी के मुद्दे का समाधान

बंद का मकसद राज्य और केंद्र सरकार पर महादयी पानी वितरण विवाद पर समाधान निकालने के लिए दबाव बनाना है. इसके साथ ही कर्नाटक की जनता कालसा-बांदुरी बांध योजना का इस्तेमाल नहीं किए जाने का विरोध कर रही है, ऐसा किए जाने से महादायी नदी का पानी उत्तरी कर्नाटक के जिलों में चला जाएगा. इस योजना का मकसद था कि जुड़वा शहर हुबली-धरवाड और बेलागावी तथा गाडग जिलों में पीने के पानी की सप्लाई ठीक ढंग से हो सके.

बंद का राजनीतिकरण

खबर है कि इस राज्यव्यापी बंद में राजनैतिक पार्टियों का भी हस्तक्षेप है. भाजपा का कहना है कि राज्य में ‘बंद आन्दोलन’ करने के लिए 25 जनवरी के दिन को ही सोच-समझकर चुना  गया है, क्यूंकि इस दिन पार्टी के अध्यक्ष अमित शाह और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी राज्य का दौरा करने वाले हैं. इस बंद के पीछे राज्य की कांग्रेस सरकार का मुख्य हाथ बताया जा रहा है.

- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

लव जेहाद: नाम बदलकर नाबालिग हिंदू लड़की को फंसाने वाला शादीशुदा मुस्लिम शख्स गिरफ्तार

लड़की के परिजनों का कहना है कि इस शख्स ने उनकी बेटी को अपना नाम राहुल बताया और सब्जी बेचते-बेचते उससे दोस्ती कर...

IPL 2020 – Must-win game for KXIP and SRH

The Kings XI Punjab (KXIP) will be squaring off against the...

महेश भट्ट और उनका परिवार कर रहा मुझे परेशान: लवीना लोध

मुंबई: सोशल मीडिया पर एक्ट्रेस लवीना लोध (Luviena Lodh) ने एक वीडियो अपलोड किया है जहां पर उन्होंने खुद को महेश भट्ट का...