राम का काम करना है और राम का काम होकर रहेगा : मोहन भागवत

लोकसभा चुनाव 2019 के बाद संघ प्रमुख मोहन भागवत का एक बयान आया है. उन्होंने संघ के एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि राम का काम करना है और वो निगरानी के साथ होकर रहेगा. वैसे तो संघ प्रमुख के इस बयान के इस बयान से कयास लगाए जा रहे हैं कि वे राम मंदिर की बात कर रहे थे लेकिन उनके बयान से कुछ स्पष्ट नही हो सका है.

उदयपुर में संघ शिक्षा वर्ग में अपने संबोधन के दौरान मोहन भागवत ने कहा कि , “राम का काम करना है और राम का काम होकर रहेगा. अपना काम खुद करेंगे तो ठीक होता है और दूसरे को सौंप देंगे तो निगरानी रखनी होती है. भागवत के संबोधन के पहले प्रसिद्द कथावाचक मुरारी बापू ने कहा था कि राम का काम सबको करना है उसी को उसी में जोड़ते हुए भागवत ने यह बयान दिया.

उदयपुर में चल रहे इस शिविर में चार दिन तक भागवत का प्रवास रहा. मालूम हो कि इस शिविर में तकरीबन 300 स्वयंसेवक प्रशिक्षण ले रहे हैं. वैसे तो राम मंदिर मुद्दे पर संघ पहले ही भाजपा सरकार से नाराज़गी जाता चुकी है.

मालूम हो कि राममंदिर का मुद्दा सुप्रीम कोर्ट ने मध्यस्थता के माध्यम से सुलझाने की कोशिश की है और इस मसले में तीन लोगों की नियुक्ति भी की है. अब अगला कदम सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद ही उठाया जाएगा.