Thursday, August 13, 2020
Home Breaking News Hindi दिल्ली सरकार ने निर्भया कांड के दोषियों की दया याचिका को ख़ारिज...

दिल्ली सरकार ने निर्भया कांड के दोषियों की दया याचिका को ख़ारिज करने की मांग की

- Advertisement -

हैदराबाद में प्रियंका रेड्डी से बलात्कार उनकी लाश को जिन्दा जलाने की खबर ठंडी नहीं हुई थी कि एक खबर दिल्ली से आयी है। यह निर्भया काण्ड से सम्बंधित है। दिल्ली सरकार ने 2012 के निर्भया हत्याकांड के दोषियों में से एक की ओर से दायर दया याचिका को खारिज करने की “पुरजोर सिफारिश” की है।

दिल्ली के गृहमंत्री सत्येंद्र जैन ने मामले में अरविंद केजरीवाल सरकार की सिफारिशों के साथ उपराज्यपाल अनिल बैजल को फाइल भेजी है।

23 वर्षीय लड़की निर्भया छात्र के साथ गैंगरेप और हत्या के मामले में फांसी की सजा पाने वाले दोषियों में से एक विनय शर्मा ने राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद के समक्ष दया याचिका दायर की थी।

एक सूत्र ने सत्येंद्र जैन के हवाले से कहा, “आवेदक (विनय शर्मा) द्वारा की गई क्रूरता सबसे जघन्य अपराध है। यह वह सजा है जहां दूसरों को इस तरह के अत्याचार करने वाले अपराधों से बचने के लिए कठोर सजा दी जानी चाहिए।”

दिल्ली के गृह मंत्री सत्येंद्र ने यह भी कहा, “दया याचिका में कोई ठोस तथ्य नहीं है, इसलिए इसे दृढ़ता से अस्वीकृति के लिए सिफारिश की गई है”।

सूत्रों ने कहा कि फाइल अब लेफ्टिनेंट गवर्नर के पास आगे के विचार के लिए भेजी जाएगी और फिर इसे दिल्ली एलजी की सिफारिशों के साथ केंद्रीय गृह मंत्रालय को भेजा जाएगा।

आरोपी शर्मा मामले में गिरफ्तारी के बाद से तिहाड़ जेल में है। एक अन्य दोषी मुकेश ने भी दया याचिका दायर की थी जिसे मना कर दिया गया।

अर्धसैनिक छात्र निर्भया के साथ 16-17 दिसंबर, 2012 की रात को दक्षिण दिल्ली में एक चलती बस के अंदर छह व्यक्तियों द्वारा बलात्कार किया गया। इसके बाद उसकी बॉडी को क्षतिग्रस्त करने के बाद चलती बस से सड़क पर फेक दिया।

निर्भया की माँ

29 दिसंबर, 2012 को सिंगापुर के माउंट एलिजाबेथ अस्पताल में निर्भया का निधन हो गया।

यह भी पढ़ें: दिल्ली हाईकोर्ट ने महिलाओं की सुरक्षा के लिए केंद्र और दिल्ली सरकार को दिया ये आदेश

आरोपियों में से एक राम सिंह ने खुद को जेल में मार लिया था। उसन जेल में ही फांसी लगाके आत्महत्या कर ली। एक अन्य आरोपी, जो नाबालिग थे, को बलात्कार और हत्या का दोषी ठहराया गया था और उसे एक सुधार गृह में अधिकतम तीन साल की सजा दी गई थी।

चौथा दोषी अक्षय कुमार सिंह (33) ने सुप्रीम कोर्ट में पुनर्विचार याचिका दायर नहीं की थी।

- Advertisement -
mm
Pradeep Vermahttps://www.news4social.com
Hindi literature , Films Enthusiastic, Screenplay Writer and Cricket Lover.
- Advertisment -

Most Popular

Rhea Chakraborty सहित उनके पिता और भाई का मोबाइल जब्त, इस जानकारी को जुटाने में लगी ED

नई दिल्ली: दिवंगत बॉलीवुड अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत (Sushant Singh Rajput) मामले में मनी लॉन्ड्रिंग की जांच कर रही प्रवर्तन निदेशालय (Enforcement Directorate-...

‘Pranab Mukherjee is alive and haemodynamically stable’: Son, daughter refute fake news

Dismissing the 'fake news' regarding the health of Pranab Mukherjee, his...

रेलवे की दूसरी प्री-बिड कॉन्फ्रेंस : IRCTC समेत 23 कंपनियां हुई शामिल, जानिए कब तक चलेंगी ट्रेनें

नई दिल्ली : देश में प्राइवेट ट्रेन (Private Trains) चलाने के लिए भारतीय रेलवे (Indian Railway) ने दूसरी प्री-बिड कॉन्फ्रेंस (Pre Bid Conference)...