अमृतसर जेल में पैदा हुई पाकिस्तानी लड़की, मां के साथ हुई रिहा, कहा- थैंक्यू मोदी जी!

पाकिस्तानी महिला फातिमा अपनी बेटी और बहन के साथ करीब 10 साल बाद पंजाब के अमृतसर की सेंट्रल जेल से रिहा हुई हैं। फातिमा और उसकी बहन मुमताज को एक दशक पहले तस्करी के आरोप में सुरक्षाबलों ने गिरफ्तार किया था। फातिमा की बेटी हिना का जन्म जेल में ही हुआ था और वो यहीं पर पली बढ़ी हैं। अब वे अटारी बोर्डर के जरिए पाकिस्तान में स्थित अपने घर जाने के लिए रिहा हो गई हैं। फातिमा ने कहा, ‘मैं चाहती हूं कि पाकिस्तान में कैद भारतीय नागरिक को भी रिहा करके अपने घर वापस भेज दिया जाए। मैं वकील नवजोत जी और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का शुक्रिया अदा करती हूं। इसके साथ ही मदद के लिए पूरे हिंदुस्तान को नमन करती हूं।’

हिना, जिसने अपना घर कभी नहीं देखा, वह भी बहुत खुश है। उसने कहा, ‘मैं बहुत खुश हूं कि मैं मेरे घर वापस जाऊंगी और अपने पिता से मिलूंगी।’ फातिमा की बहन मुमताज का कहना है कि इस दौरान पुलिस कर्मचारी से लेकर, सरकार और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हमारी मदद की और घर लौटने को लेकर हम बहुत खुश हैं। इस केस पर अक्टूबर 2016 से काम कर रही वकील नवजोत छाबा ने कहा कि वह खुश है कि उसका संघर्ष बेकार नहीं गया। वकील ने कहा, ‘हिना को बहुत लंबे संघर्ष के बाद रिहा किया गया है। वही वजह थी जिसकी वजह से मैंने यह कदम उठाया, क्योंकि उस छोटी बच्ची की कोई गलती नहीं थी, फिर भी यह सब झेल रही थी। आज मेरी दिवाली है।’

साथ ही वकील ने कहा, ‘मैंने हिना की ओर से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखा था। यह हमारे लिए बहुत ही खुशी की बात है कि भारत सरकार ने इसमें दखल दी और उन्हें रिहा किया। हिना बहुत ही खुश है कि वह अपने घर जाएगी और अपने पिता और परिवार के अन्य सदस्यों से मिलेगी।’