पतंजलि योगपीठ ने ढूंढ लिया कोरोना वायरस का इलाज !

पतंजलि योगपीठ कोरोना वारस इलाज
पतंजलि योगपीठ कोरोना वारस इलाज

पतंजलि योगपीठ ने ढूंढ लिया कोरोना वायरस का इलाज !

कोरोना वायरस जिसने चीन से शुरू होकर लगभग पूरी दुनिया में कोहराम मचा रखा है. सभी देश इसके लिए दवा खोजने में लगे हैं. लेकिन अभी तक इसका कोई इलाज नहीं मिल पाया है. हर तरफ से कोरोना वायरस को लेकर लगातार नकारात्मक खबरें ही आ रही हैं.

लेकिन ना सिर्फ हमारे लिए बल्कि पूरी दुनिया के लिए एक बहुत अच्छी खबर ये है कि पतंजलि योगपीठ ने दावा किया है कि हमने कोरोना वायरस का इलाज ढूंढ लिया है.

आचार्य बालकृष्ण ने दावा किया है कि आयुर्वेदिक दवाओ से कोरोना वायरस का पूरी तरह से इलाज किया जा सकता है. इसके साथ ही उन्होनें ये भी दावा किया है कि इलाज के साथ-साथ हम इन दवाओं का प्रयोग वैक्सीन के रूप में कर कोरोना वायरस के संक्रमण से भी बच सकते हैं.

आचार्य बालकृष्ण ने ये भी बताया कि इसके लिए हमने 3 महीने तक शोध किया तथा चूहों पर कई दौर का सफल परीक्षण करने में सफलता हासिल हुई.

इसके आगे उन्होंने बताया कि अश्वगंधा, गिलोय , तुलसी और स्वासारी रस का निश्चित अनुपात में सेवन करने से कोरोना वायरस से छूटकारा पाया जा सकता है तथा इंसान पूरी तरह से स्वस्थ हो सकता है. इस शोध के लिए शोधकर्ताओं ने आयुर्वेदिक गुण वाले 150 से अधइक पौधों के 1550 कंपाउंड पर शोध कर ये सफलता हासिल हुई.

यह भी पढे़ं: क्या सच में कोरोना वायरस के बारे में शिव पुराण में चर्चा की गई है ?

यह शोधपत्र अमेरिका के  इंटरनेशनल जर्नल ‘बायोमेडिसिन फार्मोकोथेरेपी’ में इसका प्रकाशन हो चुका है. पतंजलि अनुसंधान संस्थान के प्रमुख एवं उपाध्यक्ष डॉ. अनुराग वार्ष्‍णेय ने बताया कि कोविड-19 के इलाज की सारी विधि महर्षि चरक के प्रसिद्ध ग्रंथ ‘चरक संहिता’ और आचार्य बालकृष्ण के वर्तमान प्रयोगों एवं सोच पर आधारित है.

ना सिर्फ भारत बल्कि पूरी दुनिया के लिए यह एक बहुत बड़ी राहत देने वाली खबर है , क्योंकि इस समय कोरोना वायरस के कारण मौतों को आँकड़ा हजारों तथा संक्रमितों को लाखों में जा चुका है.

स्त्रोत- दैनिक जागरण में छपी रिपोर्ट

Today latest news in hindi के लिए लिए हमे फेसबुक , ट्विटर और इंस्टाग्राम में फॉलो करे | Get all Breaking News in Hindi related to live update of politics News in hindi , sports hindi news , Bollywood Hindi News , technology and education etc.