इस टेक्नोलॉजी की मदद से मात्र 72 घंटे में बनाया जा सकता है घर

अगर कोई कहे कि 72 घंटे के अंदर किसी घर को बनाके तैयार किया जा सकता है तो यह थोड़ा हैरानी भरा लग सकता है। लेकिन ऐसा संभव हुआ है। विज्ञानं आज के समय में इतना विकसित हो चुका है कि हर काम चुटकियों में हो रहा है। यह टेक्नोलॉजी इंडिया में विकसित हुई। आइये इस बारें में विस्तार से जानते हैं।

नेशनल रियल एस्टेट डेवलपमेंट काउंसिल (NAREDCO) ने एक नई हाउसिंग टेक्नोलॉजी लॉन्च की है, जिसमें हल्की स्टील का उपयोग करके एक इमारत 72 घंटों के भीतर खड़ी की जा सकती है।

यह इमारत मौसम के साथ-साथ प्राकृतिक आपदाओं को भी झेल सकती है, इसके अलावा यह आने वाले समय के हिसाब से यह जमीन तैयार करती है।

उत्तर कर्नाटक में हाल ही में आई बाढ़ ने कई लोगों को बेघर कर दिया है। ऐसी परिस्थितियों में एक वैकल्पिक घर ढूंढना मानसिक और शारीरिक रूप से एक थकाऊ मामला हो सकता है। इस बात को ध्यान में रखते हुए, NAREDCO ने पीड़ितों के पुनर्वास के लिए एक त्वरित और गुणात्मक दृष्टिकोण लाने का फैसला किया।

NAREDCO के अध्यक्ष ने बताया, “यहां इस्तेमाल की जाने वाली सामग्री हल्के स्टील, ड्राईवॉल और पारंपरिक घरों की तुलना में केवल 20 प्रतिशत सीमेंट है। यह सामग्री आसानी से उपलब्ध है और उन्नत प्रकाश इस्पात प्रौद्योगिकी का उपयोग करके आकार में परिवर्तन किया जा सकता है।

NAREDCO अब राज्य के विभिन्न हिस्सों में बड़े पैमाने पर आवास के लिए विभिन्न सरकारी विभागों को देख रहा है। हमने अभी इसे लॉन्च किया है और अभी ऑर्डर लेना बाकी है। लेकिन हमारे पास 2017-18 में उत्तरी कर्नाटक में 60 दिनों में 70 अस्पतालों की प्रोजेक्ट बनाने थे।”

यह भी पढ़ें- SMAT: कर्नाटक के अभिमन्यु मिथुन ने अंतिम ओवर में घातक गेंदबाज़ी करके मलिंगा का रिकॉर्ड तोड़ा

इस टेक्नोलॉजी से बने घर 100 साल तक टिक सकते हैं। दिलचस्प बात यह है, इस घर को बनाने की लागत सामान्य घरों को बनाने की लागत के समान है। यह बिना जली ईंटों, रेत या नदी के रेत से बने होने के कारण पर्यावरण के अनुकूल रहती है।

हालांकि, थर्मोकोल और प्लाईवुड को एक टेम्प्रेरी के रूप में इस्तेमाल किया जाता है। कंपनी यह भी दावा करती है कि आपातकालीन परिस्थितियों में यह एक सप्ताह के भीतर 20,500 वर्ग फुट घरों का निर्माण कर सकती है। इस तरह के घर का वजन भी सामान्य घरों से 1/10 वां है।