द‍िसंबर तक सबको वैक्‍सीन? सरकार ने कहा- टीकाकरण पूरा करने की कोई डेडलाइन नहीं

0
377
द‍िसंबर तक सबको वैक्‍सीन? सरकार ने कहा- टीकाकरण पूरा करने की कोई डेडलाइन नहीं

द‍िसंबर तक सबको वैक्‍सीन? सरकार ने कहा- टीकाकरण पूरा करने की कोई डेडलाइन नहीं

नई दिल्‍ली
कोविड टीकाकरण को लेकर सरकार विपक्ष के निशाने पर है। वहीं, शुक्रवार को उसने कहा कि टीकाकरण अभियान को पूरा करने के लिए फिलहाल कोई निश्चित समयसीमा नहीं बताई जा सकती है। उम्मीद है कि दिसंबर 2021 तक 18 वर्ष और उससे अधिक आयु के लाभार्थियों का टीकाकरण हो जाएगा।

स्वास्थ्य और परिवार कल्याण राज्य मंत्री भारती प्रवीण पवार ने कांग्रेस सांसद राहुल गांधी और लोकसभा सांसद माला रॉय के एक सवाल के जवाब में यह जानकारी दी। उन्‍होंने कहा कि देश में टीकाकरण लगातार चलने वाली प्रक्रिया है। इसे नेशनल एक्सपर्ट ग्रुप की निगरानी में चलाया जा रहा है। उन्होंने बताया कि कोविड-19 महामारी की गतिशील और विकसित प्रकृति को देखते हुए टीकाकरण अभियान को पूरा करने के लिए अभी कोई निश्चित समयसीमा का संकेत नहीं दिया जा सकता है।

Rajya sabha news: राज्‍यसभा में सरकार पर बरसे संजय राउत, बोले- तालियां बजाओ, थालियां बजाओ फिर गाली भी खानी पड़ती है

पवार ने कहा, वैसे उम्मीद है कि दिसंबर 2021 तक 18 साल और उससे अधिक उम्र के लाभार्थियों का टीकाकरण कर दिया जाएगा। राहुल गांधी के एक अन्य सवाल के जवाब में पवार ने कहा कि अगस्त से दिसंबर 2021 के बीच कोविड-19 वैक्सीन की कुल 135 करोड़ खुराक उपलब्ध होने की उम्मीद है।

कोरोना: इस हफ्ते तेजी से घटे केस, नए मामलों के हिसाब से दुनिया में चौथे नंबर पर भारत
उन्होंने बताया कि घरेलू वैक्सीन निर्माताओं के साथ खरीद समझौते करने में कोई देरी नहीं हुई है। मंत्री ने कहा, प्रोड्यूसर्स को उन्हें दिए गए ऑर्डर्स की आपूर्ति के लिए अग्रिम भुगतान भी किया गया है। मंत्री ने कहा, कोविड-19 टीकाकरण कार्यक्रम पर अब तक कुल 9,725.15 करोड़ रुपये खर्च किए गए हैं, जिसमें टीकों की खरीद और टीकों की परिचालन लागत शामिल है।

पवार ने यह भी बताया कि देश में कोविड-19 टीकों की कोई कमी नहीं है। देश में उपयोग में लाए जा रहे टीकों को दो से आठ डिग्री सेल्सियस तापमान में रखने की जरूरत है। देश में 296 वॉक-इन कूलर और 57,640 आइस-लाइन्ड रेफ्रिजरेटर हैं। नियमित टीकाकरण के लिहाज से ये क्षमताएं पर्याप्त हैं।

उनसे यह भी पूछा गया कि क्या सरकार को पता है कि भारत दुनिया का सबसे बड़ा टीका उत्पादक है, उसके बावजूद 10 फीसदी से भी कम भारतीयों को कोविड टीकों की एक ही खुराक मिली है। इस पर जवाब देते हुए मंत्री ने कहा है कि 20 जुलाई की स्थिति के अनुसार 18 साल और उससे ऊपर की करीब 34.5 फीसदी आबादी ने कोविड टीके की कम से कम एक खुराक लगवा ली है।

vaccination

यह भी पढ़ें: Patanjali Divya Kayakalp Taila दवा के फायदे और नुकसान क्या हैं ?

Today latest news in hindi के लिए लिए हमे फेसबुक, ट्विटर और इंस्टाग्राम में फॉलो करे | Get all Breaking News in Hindi related to live update of politics News in hindi, sports hindi news, Bollywood Hindi News, technology and education etc.

Source link