कोरोना वायरस संक्रमित व्यक्ति का न्यूनतम तापमान कितना डिग्री सेंटीग्रेड होता है ?

coronavirus
coronavirus

कोरोना वायरस संक्रमित व्यक्ति का न्यूनतम तापमान कितना डिग्री सेंटीग्रेड होता है ?

कोरोना वायरस ने दुनियभर में कोहराम मचाया हुआ है। अब तक कोरोना का कहर 110 देशों में फैल गया है, इस घातक वायरस का प्रकोप ऐसा है देशभर में 600 तक इसका अकड़ा जा पहुंचा जो काफी चिंता का विषय है। लॉक डाउन होने के बाद भी कोरोना वायरस से संकर्मित लोगो का अकड़ा घटने की जगह और बढ़ा है।

आपको बता दे कि बहुत से लोगो के मन में यह सवाल उठ रहा है कि कोरोना वायरस संक्रमित व्यक्ति का न्यूनतम तापमान कितना डिग्री सेंटीग्रेड होता है? अभी भी इस सन्दर्भ में शोध जारी है। अभी तक कोरोना वायरस का मौसम का प्रभाव है या नहीं इस पार शोध जोरों पर सगल रहा है लेकिन कुछ कहना मुशिकल है, यह वायरस कुछ महीने पहले ही सक्रिय हुआ है।

कोरोना वायरस संक्रमित व्यक्ति का न्यूनतम तापमान
कोरोना वायरस संक्रमित व्यक्ति का न्यूनतम तापमान

ऐसा अनुमान लगाया गया है कि बढ़ा हुआ तापमान वायरस को मार सकता है और गर्मी की शुरुआत में वायरस के प्रसार में भी कमी आ सकती है. हालांकि, वैज्ञानिकों के पास COVID-19 पर गर्मियों के तापमान के प्रभाव पर कोई निश्चित जवाब नहीं है |

ज्यादातर एक्सपर्ट्स ने इससे बचने के लिए सावधानियां बरतने की सलाह दी, तो कुछ ने गर्मी से कोरोना वायरस के प्रभाव (Coronavirus Outbreak) के बारे में कहा कि जिन देशों में गर्मी ज्यादा है वहां भी कोरोना वायरस का प्रकोप देखने को मिल रहा है. ऐसे में इस वायरस के बारे में ज्यादा कुछ अभी कहा नहीं जा सकता है।

कोरोना वायरस
कोरोना वायरस संक्रमित व्यक्ति

कोरोनावायरस सूखी सतहों पर 8-10 दिनों के लिए सक्रिय रह सकता है. आमतौर पर सभी वायरस गर्मी बढ़ने पर निष्क्रिय या नष्ट हो जाते हैं, लेकिन कोरोनावायरस 37 डिग्री सेल्सियस पर मानव शरीर में जीवित रहता है, तो अभी तक COVID-19 को निष्क्रिय करने के लिए सटीक तापमान का अंदाजा नहीं लगाया जा सकता है।

यह भी पढ़ें : जानें जापान में कोरोना वायरस के कितने मरीज सामने आए

दुनियभर में कोरोना वायरस का आतंक ऐसा है कि अमेरिका , इटली जैसे देश जिनका हेल्थ केयर सिस्टम वर्ल्ड के सबसे बेहतरीन और वर्ल्ड क्लास माना जाता है वो भी कोरोना वायरस के आगे बेबस नज़र आरहे है।

दुनियाभर में कोरोना वायरस के 7 लाख से अधिक मामले सामने आये है , जिनमें से डेढ़ लाख से अधिक लोग रिकवर हो चुके है और 33000+ लोगो की इस वायरस के घातक प्रकोप के कारण मौत हो गई है। दुनिया भर में कोरोना वायरस की झाड़े उखड फेंकने की मुहीम जारी है।