Home Breaking News Hindi अत्यधिक बारिश होने या बिल्कुल बारिश ना होने से क्या होता है...

अत्यधिक बारिश होने या बिल्कुल बारिश ना होने से क्या होता है ?

0
163
बारिश
बारिश

अत्यधिक बारिश होने या बिल्कुल बारिश ना होने से क्या होता है ? ( What happens when it rains heavily or no rain at all ? )    

वर्षा का बहत महत्व होता है. किसी भी क्षेत्र का रहन सहन या फिर प्रकृति वर्षा पर ही निर्भर करता है. अगर हम किसी भी क्षेत्र में जाते हैं, तो वहां के क्षेत्र में पाई जाने वाली पौधो की प्रजाति और विविधता को देखकर आसानी से अंदाजा लगा सकते हैं, कि इस क्षेत्र में बारिश कम होती है या ज्यादा होती है. एक कहवावत होती है कि अति हर चीज की बुरी होती है. इसका अर्थ है कि किसी चीज के लिमिट से ज्यादा होने का भी हमें नुकसान उठाना पड़ता है. बारिश के मामले में भी ऐसा ही होता है. अगर हद से ज्यादा बारिश हो , वो भी मानव जाति के लिए एक आपदा होती है तथा बिल्कुल बारिश ना हो, वह भी मानव जाति के लिए एक आपदा होती है. लेकिन क्या आपने सोचा है कि अत्यधिक बारिश होने या फिर बिल्कुल बारिश ना होने से क्या होता है. इस पोस्ट में इसी सवाल जवाब जानते हैं.

बाढ

अत्यधिक बारिश होने क्या होता है-

बारिश का किसी संस्कृत समाज की रिति रिवाजों में भी अह्म योगदान होता है. अगर अत्यधिक बारिश होती है, उसका सबसे महत्वपूर्ण परिणाम यह होता है कि वहां उस क्षेत्र की वनस्पति पर इसका सीधा प्रभाव पड़ता है. इसके अलवा वहां पर किस फसल की अधिकता होगी तथा वहां उस क्षेत्र में कौन से व्यापार को महत्व दिया जाता है. इन सबको कहीं ना कहीं अत्यधिक बारिश प्रभावित करती है. इसके साथ ही अत्यधिक बारिश की वजह से बाढ आदि का खतरा भी बढ़ जाता है. जिसके कारण हमारी फसल खराब हो जाती हैं तथा पलायन करने पर मजबूर होना पड़ता है.

सूखा

बिल्कुल बारिश ना होने से क्या होता है-

अगर किसी क्षेत्र में बिल्कुल भी बारिश ना हो तो वहां पर रेगिस्तान बन जाता है. जहां पर ना के बराबर वनस्पति पाई जाती है. इसके अलावा काफी जीवों का वहां पर जीवन यापन संभव नहीं हो पाता. जिसकी वजह से या तो जीवों की प्रजातियां वहां उस क्षेत्र से पलायन कर लेती हैं या विलुप्त हो जाती है. इसके अलावा उस क्षेत्र को सूखे की समस्या का सामना भी करना पड़ता है. भारत में काफी ऐसे क्षेत्र हैं, जहां गर्मी के मौसम में पीने के पानी की समस्या हो जाती है.

यह भी पढ़ें: वायरल बुखार और मलेरिया बुखार में क्या अंतर होता है?

अत्यधिक बारिश का होना तथा बिल्कुल बारिश का ना होना बड़े स्तर पर उस क्षेत्र की वनस्पति तथा मानव जीवन को बड़े स्तर पर प्रभावित करता है. इसके अलावा जहां पर अधिक बारिश होती है, वहां के पेड़ पौधे हरे भरे रहते हैं तथा वहां पर जैव विविधता भी अधिक पाई जाती है.

Today latest news in hindi के लिए लिए हमे फेसबुक , ट्विटर और इंस्टाग्राम में फॉलो करे | Get all Breaking News in Hindi related to live update of politics News in hindi , sports hindi news , Bollywood Hindi News , technology and education etc.