ये क्या बोल गए सुपर स्टार रजनीकांत?

खबर ये है कि गुजरात के अमरेली में शेरों के झुंड ने काफी उत्पात मचाया है। इस घटना से जोड़ते हुए हम फिल्मों के उन डायलॉग्स की बात करेंगे जिनमें शेर को उदाहरण के रूप में दिखाया जा रहा हैं-

 

बॉलीवुड में आपको ऐसे कई हीरो मिल जाएंगे जो डायलॉग बोलते हुए अपने आप को शेर बताते हैं और विलेन को सूअर या गीदड़, बहादुरी में शेर का नाम सबसे पहले आता है। लोग कहते भी हैं कि शेर बनो गीदड़ नहीं क्योंकि ऐसा माना जाता है कि शेर अकेले ही कईयों पर भारी पड़ता है। हमारे फिल्मों में तो ऐसे संवाद पर लोग तालियां भी खूब पीटते हैं।

पूरा हिंदुस्तान रजनीकांत के एक्शन और उनके डायलॉग के दिवाने हैं। लेकिन रजनीकांत के डायलॉग को तो इन शेरों ने झूठा साबित कर दिया है।

विश्वास नहीं होता, तो खुद देख लीजिए इस वीडियो में, गुजरात के अमरेली में झूंड में घूम रहे शेरों ने ये साबित कर दिया कि केवल सूअर और गीदड़ ही नहीं बल्कि शेर भी झूंड में आते हैं। देखिए कैसे शेर के इस झूंड से डर कर बाकी जानवर इधर से उधर भाग रहे हैं और शेर हैं कि सूअर के माफिक झूंड में आकर उत्पात मचा रहा हैं।

इससे तो यही साबित होता है ना कि अब तक हिन्दी फिल्मों के स्क्रिप्ट राइटर बेमतलब ही सूअरों और गीदड़ों को बदनाम करते रहे हैं। वो तो अच्छा हुआ कि सूअरों और गीदड़ों को अब तक ये बात समझ में नहीं आई है और ना ही उनका कोई यूनियन है, नहीं तो हो गया होता अब तक विरोध प्रदर्शन और हड़ताल। हां आगे से आप भी जब अपने आप को शेर समझते हों तो इस वाक्यात को जरूर याद कीजिएगा।