Home Breaking News Hindi बौद्ध धर्म को किस देश ने अपना राष्ट्रीय धर्म घोषित किया ?

बौद्ध धर्म को किस देश ने अपना राष्ट्रीय धर्म घोषित किया ?

0
118
बौद्ध धर्म को किस देश ने अपना राष्ट्रीय धर्म घोषित किया Which country declared Buddhism as its national religion
बौद्ध धर्म को किस देश ने अपना राष्ट्रीय धर्म घोषित किया Which country declared Buddhism as its national religion

बौद्ध धर्म को किस देश ने अपना राष्ट्रीय धर्म घोषित किया ? ( Which country declared Buddhism as its national religion? )

बौद्ध धर्म की स्थापना महात्मा बुद्ध ने की थी. बौद्ध धर्म विश्व के अनेंक देशों में फैला. इसके साथ ही अनेंक शासको ने इसको संरक्षण दिया तथा इसके प्रचार में सहयोग किया. चीन में भी बड़े स्तर पर बौद्ध धर्म को माना जाता था. बौद्ध धर्म की इतनी प्रसिद्धि के कारण ही लोगों के मन में इससे संबंधित अनेंक सवाल होते हैं. इस तरह का एक सवाल आता है कि क्या किसी देश ने बौद्ध धर्म को राष्ट्रीय धर्म घोषित किया है और किया है तो कब ?  अगर आपके मन में भी यहीं सवाल है, तो इस पोस्ट में आपको इस सवाल का जवाब मिल जाएगा.

महात्मा गांधी

बौद्ध धर्म को किस देश ने अपना राष्ट्रीय धर्म-

भारत से शुरू हुए बौद्ध धर्म को कम्बोडिया के द्वारा राष्ट्रीय धर्म घोषित किया. कंबोडिया द्वारा 1989 में बौद्ध धर्म को राष्ट्रीय धर्म घोषित किया. बौद्ध धर्म समय के साथ 2 शाखाओं में बंट गया. एक महायान तथा दूसरी शाखा हीनयान थी. मध्यएशिया , चीन , जापान , कोरिया , मंगोलिया तथा तिब्बत में महायान का प्रचार किया गया. इसके साथ ही हीनयान शाखा की मत का प्रचार श्रीलंका , बर्मा , कम्बोडिया व दक्षिण पूर्व एशिया में किया गया.

महात्मा गांधी

हीनयान का अर्थ होता है- निम्न मार्ग तथा महायान का अर्थ – उत्कृष्ट मार्ग. अगर इन शाखाओं को साधारण शब्दों में समझे तो महात्मा बौद्ध द्वारा बताए गए नियमों सख्ती से पालन करने वालों को हीनयान शाखा के संबधित माना जाता है. इसके अलावा बौद्ध धर्म की वह शाखा जिसने समय के साथ अपने आप में बदलाव कर लिया. उसे महायान शाखा कहा जाता है.

यह भी पढ़ें: भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस में सम्मिलित होने के लिए सुभाषचंद्र बोस को किसने प्रेरित किया ?

बौद्ध धर्म की स्थापना महात्मा बुद्ध ने की थी. इनके बचपन का नाम सिद्धार्थ था. इनके पिता का नाम शुद्धोदन था. जो कपिलवस्तु के शाक्य गणराज्य के प्रधान थे. कपिलवस्तु उस समय कोसल महाजनपद के अंतर्गत आता था. इसका जन्म लगभग 563 ईं. पू. के आस पास हुआ था. इसके जन्म के 7 दिन बाद इनकी माता महामाया की मृत्यु हो गई थी. इनका पालन पोषण मौसी या विमाता प्रजा प्रजापति गौतमी ने किया था.

Today latest news in hindi के लिए लिए हमे फेसबुक , ट्विटर और इंस्टाग्राम में फॉलो करे | Get all Breaking News in Hindi related to live update of politics News in hindi , sports hindi news , Bollywood Hindi News , technology and education etc.