किसने सबसे पहले सुल्तान बनकर दिल्ली पर शासन किया और कब तक

इल्तुतमिश
इल्तुतमिश

किसने सबसे पहले सुल्तान बनकर दिल्ली पर शासन किया और कब तक

भारत की राजधानी दिल्ली आज ही नही इतिहास में भी सत्ता का मुख्य केंद्र रहा है. दिल्ली पर काफी राजाओं ने शासन किया है. दिल्ली की गद्दी को पाने के लिए पुराने समय से लड़ाईयां होती रही हैं. लेकिन अगर हम बात करें कि दिल्ली का पहला सुल्तान कौन बना तो ये जानने से पहले हमें ये जानना जरूरी है कि सुल्तान की उपाधि कौन देता था. सुल्तान की उपाधि देने का अधिकार सिर्फ बगदाद के खलिफाओं को था.

आपकों ये भी बता दें कि हजरत मुहम्मद साहब के उत्तराधिकारियों को खलिफा की उपाधि प्रदान की जाती थी.

दिल्ली इतिहास

अब बात करते हैं दिल्ली के सुल्तान की. भारत में 1000 ईं. से 1027 ई. तक महमूद गजनी ने आक्रमण किया था. यह तुर्की की एक जगह गजनी (वर्तमान में अफगानिस्तान ) में यामिनी वंश से संबंधित था. उस समय खलीफा सुल्तान की उपाधि देते थे. लेकिन महमूद गजनी ने खुद ही सुल्तान और गाजी की उपाधि धारण की थी. लेकिन खलिफाओं ने यह उपाधि नहीं दी थी.

दिल्ली का इतिहास

उसके बाद 1206 में कुतुबद्दीन ऐबक ने गुलाम वंश की स्थापना की. यहीं से दिल्ली सल्तनत की शुरूआत भी मानी जाती है. इसने सबसे पहले अपनी राजधानी लाहौर को बनाया.

कुतुबद्दीन ऐबक ने सेनापति की गद्दी पर बैठकर शासन किया तथा इसने कभी भी सुल्तान की उपाधि धारण नहीं की.इसके बाद शासक बनें आरामशाह का शासनकाल बहुत छोटा था.

यह भी पढ़ें: अलाउद्दीन खिलजी के जमाने में दिल्ली का क्या नाम था ?

इसके बाद 1211 में इल्तुतमिश दिल्ली की गद्दी पर बैठा. इसको ही सही मायने में दिल्ली सल्तनत का वास्तविक संस्थापक माना जाता है. यह सही अर्थों में पहला सुल्तान बना. बगदाद के खलीफाओं ने बैधानिक तौर पर इसकों सुल्तान की उपाधि दी थी.

इसके साथ ही इसने दिल्ली के सुल्तान का पद पैतृक बना दिया. इसके अनुसार दिल्ली सल्तनत के जीतने भी शासक होंगें वो सुल्तान कहलाएंगें. दिल्ली सल्तनत का वास्तविक पहला सुल्तान इल्तुतमिस था तथा इसने (1211 से 1236 ) तक शासन किया.

Today latest news in hindi के लिए लिए हमे फेसबुक , ट्विटर और इंस्टाग्राम में फॉलो करे | Get all Breaking News in Hindi related to live update of politics News in hindi , sports hindi news , Bollywood Hindi News , technology and education etc