भारत चीन तनाव के बावजूद पाकिस्तान ने गिलगिट एलओसी पर अपने 20000 सैनिक क्यों भेजे हैं?

news
भारत चीन तनाव के बावजूद पाकिस्तान ने गिलगिट एलओसी पर अपने 20000 सैनिक क्यों भेजे हैं?

चीन ने भारत को तीन मोर्चे पर घेरने की तैयारी कर ली है। जो भी सूचनाएं मिल रही हैं, उससे जाहिर होता है कि पूर्वी लद्दाख की लड़ाई में चीन अकेले नहीं है। उसने उत्तरी लद्दाख के लिए पाकिस्तान का इस्तेमाल करने की तैयारी कर ली है और जम्मू-कश्मीर में दहशत फैलाने के लिए पाकिस्तानी आतंकी संगठन अल बदर के साथ बातचीत में लगा हुआ है। हम यहां जिन तथ्यों के साथ आए हैं, वह जानकर हर किसी को चौकन्ना हो जाना चाहिए कि चीन का मंसूबा कितना खतरनाक है। क्योंकि, बालाकोट एयर स्ट्राइक के बाद भी पाकिस्तान ने जितना फोर्स नियंत्रण रेखा पर नहीं भेजा था, उससे कहीं ज्यादा पाकिस्तानी सेना की तैनाती उसने उत्तरी लद्दाख के गिलगित-बाल्टिस्तान वाले इलाके में एलओसी पर कर दी है।

खुफिया जानकारियों के मुताबिक जो संकेत मिल रहे हैं उससे यह साफ हो रहा है कि पूर्वी लद्दाख में चीन जितनी भी चालबाजियां कर रहा है, उसमें उसके साथ पाकिस्तान भी पूरी तरह से शामिल हो चुका है। इसका अंदाजा इसी से लग जाता है कि पाकिस्तान गिलगित-बाल्टिस्तान के इलाके में नियंत्रण रेखा के आसपास दो डिविजन जवानों की तैनाती कर रहा है। यही नहीं चीन के अधिकारी जम्मू-कश्मीर के अंदर हिंसा भड़काने के लिए लगभग मर चुके पाकिस्तानी आतंकी संगठन अल बदर के सरगनाओं से भी बातचीत करने में लगे हुए हैं यानि भारतीय सेना को ड्रैगन का सामना सिर्फ पूर्वी लद्दाख की गलवान घाटी और पैंगोंग त्सो में ही नहीं करना है।

politics

उसे उत्तरी लद्दाख के पाकिस्तानी कब्जे वाले गिलगित-बाल्टिस्तान से सटे नियंत्रण रेखा पर भी मोर्चा संभालना है और जम्मू-कश्मीर में आतंकवादियों के खूनी इरादों को भी कुलचना है।पाकिस्तानी सेना के जिस दो डिविजन सैनिकों की बात कही है, वह करीब 20,000 सैनिकों की टुकड़ियां हैं, जो उत्तरी लद्दाख में एलओसी के पार पहले से ही तैनात पाकिस्तानी जवानों के अतिरिकत हैं। जबकि, चीन की पीपुल्स लिब्रेशन आर्मी लगातार पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा के उस पार अपनी सेना बढ़ाती जा रही है।

indo china

यह भी पढ़ें :जानिए भारत और चीन के सैनिक LAC बॉर्डर पर गोलियां क्यों नहीं चला सकते ?

भारत के दुश्मनों के इरादे कितने खतरनाक हैं, यह इसी से पता चल जाता है कि पाकिस्तान एलओसी पर अपनी सेना का जितना जमावड़ा कर रहा है, उतना उसने बालाकोट एयर स्ट्राइक के वक्त में भी नहीं किया था। इतना ही नहीं जानकारी के मुताबिक इलाके में पाकिस्तान के रेडार भी पूरी तरह से ऑपरेशन में आ चुके हैं। जानकारों की मानें तो भारत के दोनों दुश्मन जिस तरीके से दो मोर्चे पर जंग छेड़ना चाहते हैं और कश्मीर में आतंकियों का इस्तेमाल करना चाहते हैं, वह सामरिक दृष्टिकोण से बहुत ही चुनौतीपूर्ण स्थिति साबित हो सकती है।

Today latest news in hindi के लिए लिए हमे फेसबुक , ट्विटर और इंस्टाग्राम में फॉलो करे | Get all Breaking News in Hindi related to live update of politics News in hindi , sports hindi news , Bollywood Hindi News , technology and education etc.