तो क्या अब मिलेगा बिहार को 1.25 लाख-करोड़ का पैकेज?

तो क्या अब मिलेगा बिहार को 1.25 लाख-करोड़ का पैकेज?
तो क्या अब मिलेगा बिहार को 1.25 लाख-करोड़ का पैकेज?

देश के सबसे दूसरे बड़े राज्य यानि बिहार को एक स्पेशल पैकेज देने की बात चल रही है। हालांकि इस स्पेशल पैकेज का वादा 2015 में हुए विधानसभा चुनाव में बीजेपी पार्टी के द्वारा किया गया था। विधानसभा में बीजेपी को मिली करारी शिकस्त के बाद इस पैकेज का भी अंत हो गया था लेकिन इस पैकेज में बिहार के सीएम नीतीश कुमार ने गठबंधन तोड़कर जान डाल दी। सीएम नीतीश कुमार के बीजेपी के साथ सरकार बनाने के बाद एक बार फिर से इस स्पेशल पैकेज की चर्चा शुरू हो गई या फिर यूं कहें कि स्पेशल पैकेज पर जल्द ही मुहर भी लग जाएगी। जी हाँ, बिहार के सीएम ने देश के पीएम से स्पेशल पैकेज के बारे में बातचीत की है। संभावनाएं जताई जा रही है कि जल्द ही बिहार को यह स्पेशल तोहफा मिल जाएगा।

खबर के मुताबिक, बिहार के मुख्यमंत्री नितीश कुमार ने प्रधानमंत्री से राज्य के लिए 1.25 लाख करोड़ के लिए स्पेशल पैकेज के लिए बात की है, जिसका वादा प्रधानमंत्री मोदी ने 2015 बिहार विधानसभा के चुनावों में किया था। 2015 के बिहार विधानसभा के चुनाव में बीजेपी की हार के बाद ये स्पेशल पैकेज की हवा ठंडी पड़ गई थी। लेकिन नितीश कुमार के महागठबंधन से अलग होने और बीजेपी के साथ हाथ मिलाने के बाद इसकी संभावनाएं बहुत बढ़ गई थी। नितीश कुमार के महागठबंधन छोड़ने के बाद इस शुक्रवार को प्रधानमंत्री के साथ हुई बैठक में केंद्र सरकार की तरफ से इस स्पेशल पैकेज को देने की बात की है। सीएम नितीश कुमार ने कहा कि लोक सभा के चुनाव और विधानसभा के चुनावों में प्रधानमंत्री ने कुछ घोषणाएं की थी, जिनको पूरा करने के लिए केंद्र सरकार की मदद की आवश्यकता है।

आपको बता दें कि जब पीएम ने इस स्पेशल पैकेज की घोषणा की थी, तब नितीश कुमार और आरजेडी के मुखिया लालू प्रसाद ने इसे अपना चुनावी मुद्दा बना लिया था। अब बिहार के सीएम का यह कहना है अभी बिहार में बाढ़ का कहर जारी है,जिसके कारण लोग पलायन करने को मजबूर हैं और फसलों को भी भारी नुकसान हुआ है। इसलिए अब वक्त आ गया है कि ये पैकेज बिहार की थोड़ी समस्याओं को कम करने में मदद कर सकता है। साथ ही जेडीयू के प्रवक्ता केसी त्यागी ने प्रधानमंत्री का अभिनंदन करते हुए कहा कि मुख्यमंत्री नितीश कुमार ने यूपीए सरकार से स्पेशल पैकेज की मांग की थी, लेकिन तब नहीं मिला था। त्यागी ने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए यह भी कहा कि जो नितीश और प्रधानमंत्री मोदी ने वादे किए थे, अब वो पूरे होने जा रहे हैं।

सीएम और पीएम की बैठक के बाद आरजेडी के नेताओं ने नीतीश कुमार पर आरोप लगाने शुरू कर दिये। नितीश कुमार ने जेडीयू के कुछ मुख्य लीडर्स को भी संभाला जिनमे शरद यादव भी मौजूद हैं। शरद यादव ने नितीश के बीजेपी में शामिल होने के बाद कुछ आपत्तिजनक बातें कही थी जो उनके लिए नुकसानदायक साबित हुई है।

बहरहाल, मुद्दे पर कितनी भी राजनीति क्यों न की जाए लेकिन इस बात से नाकारा नहीं जा सकता है कि बिहार की जनता के लिये पैकेज किसी वरदान से कम नहीं होगा, वो भी ऐसे समय में जब बिहार की जनता कुदरत के कहर से लड़ रही है। बस उम्मीद तो यही है कि जल्द से जल्द यह पैकेज बिहार की जनता को उपहार स्वरूप दियें जाएं ताकि प्रदेश की जनता का कुछ भला हो सके।