इस दशहरा होने वाले रामलीला कार्यक्रम पर योगी सरकार ने जारी किया फरमान

उत्तर प्रदेश: उत्तर प्रदेश में एक बार फिर से बाउंड्रीवॉल की राजनीती शुरू हो चुकी है. यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ सरकार ने सभी सरकारी जमीनों, स्थलों और रामलीला मैदानों की बाउंड्री के निर्माण का बीड़ा उठाया है.

योगी सरकार ने सोमवार को पेश किए गए अनुपूरक बजट के दौरान यह फैसला किया

बता दें कि योगी सरकार ने सोमवार को पेश किए गए अनुपूरक बजट में रामलीला मैदानों की चहारदीवारी और गोसंरक्षण केंद्र, गौशाला के लिए 54 करोड़ रुपए का प्रावधान किया है. इससे पहले यूपी में समाजवादी सरकार ने पूरे प्रदेश के कब्रिस्तानों की चारदीवारी करवाने का फैसला किया था. अब ये कहा जा रहा है कि यूपी में योगी सरकार भी समाजवादी पार्टी की राह पर आगे बढ़ रहीं है. ये ही नहीं इसके अतिरिक्त राज्य में 68 जनपदों में गोसंरक्षण केंद्र के लिए सरकार ने अहम कदम उठाया है. राज्य के नगर निगमों में कान्हा गौशाला के लिए 20 करोड़ रूपये भी दिए गए है.

यह भी पढ़ें: उत्तर प्रदेश: 38 हज़ार करोड़ का अनुपूरक बजट विधानसभा में पेश,यह रही मुख्य बातें

ये सब सरकारी जमीनों को अवैध कब्जे से बचाने के लिए किया जा रहा है

योगी सरकार ने रामलीला मैदान की बाउंड्रीवॉल पर जो तर्क दिए है, ये उसी तरीके जैसा है जब अखिलेश यादव ने कब्रिस्तान की घेराबंदी के समय में दिया था. ये सब सरकारी जमीनों को अवैध कब्जे से बचाने के लिए किया जा रहा है. भाजपा के अनुसार, शहर-शहर में रामलीला मैदान है, लेकिन उनकी स्थिति काफी खराब है. ऐसे में रामलीला मैदानों की मरम्मत और उसकी चहारदीवारी कराना काफी महत्वपूर्ण है.

अखेलिश राज में कब्रिस्तानों की घेराबंदी का फैसला पर बीजेपी ने 2017 के विधानसभा चुनाव में बड़ा मुद्दा बनाया

आपको बता दें कि जब समाजवादी पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष अखेलिश ने जब अपने राज में कब्रिस्तानों की घेराबंदी का फैसला किया था तब बीजेपी ने 2017 के विधानसभा चुनाव में बड़ा मुद्दा बनाया था. उस दौरान भाजपा के सभी छोटे-बड़े नेताओं ने अखिलेश पार्टी पर जमकर निशाना साधा था. अब यूपी योगी सरकार  भी उसी राह पर कदम बढ़ा रहीं है.

यह भी पढ़ें: उत्तर प्रदेश: DG की योगी सरकार को लिखी चिट्ठी वायरल, कहा ‘कही का अध्यक्ष ही बनवा दीजिये’

बीजेपी प्रवक्ता राकेश त्रिपाठी का बयान

बीजेपी प्रवक्ता राकेश त्रिपाठी का कहना है कि हमने कभी कब्रिस्तान की घेराबंदी की आलोचना नहीं की, लेकिन हमने अखिलेश सरकार की उस दोगली नीति का विरोध किया है. उन्होंने कहा कब्रिस्तान की घेराबंदी के लिए तो उनके पास पैसा था लेकिन श्मशान घाटों के लिए उन्होंने कुछ नहीं किया. प्रदेश में जर्जर हालत में पहुंचे रामलीला मैदानों की हालत ठीक करवाई जाए और इसनकी चहारदीवारी जल्द से जल्द बनाई जाए.